अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

4 साल से छात्रवृत्ति बंद, कर्मचारी मांगते कमीशन

मीशन नहीं देने के कारण चार साल से दलित छात्राओं की छात्रवृत्ति बन्द है। औरंगाबाद स्थित इंदिरा गांधी महिला कॉलेज की छात्राओं ने सोमवार को जनता दरबार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बताया कि कॉलेज के कर्मचारी 10 प्रतिशत कमीशन मांगते हैं। मुख्यमंत्री ने आईजी राजवर्धन शर्मा को एफआईआर कराने जबकि कल्याण सचिव विजयप्रकाश ने भी औरंगाबाद के डीएम को जांच के निर्देश दिये हैं। प्रीति कुमारी, ममता कुमारी और पूजा कुमारी का कहना था कि सरकार ने अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अति पिछड़े वर्ग की छात्राओं को 2000 रुपये छात्रवृत्ति देती है।ड्ढr ड्ढr कमीशन नहीं देने की वजह से 1छात्राओं को वर्ष 2004 से ही छात्रवृत्ति नहीं मिल रही। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को दो वर्षीय बच्चे अंकित के इलाज की व्यवस्था करने का निर्देश दिया। अंकित के हृदय में छेद है और वॉल्व भी खराब हो रहा है। एम्स के डॉक्टरों ने तत्काल ऑपरशन की सलाह दी है लेकिन उसके परिजन खर्च उठाने की स्थिति में नहीं है। बिहार सरकार की सूची में हृदय में छेद के लिए आर्थिक सहायता का प्रावधान नहीं होने के कारण अंकित को मदद नहीं मिल पा रही। उसका आवेदन देखने के बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इस बीमारी को भी सहायता सूची में डालने और अंकित के इलाज की व्यवस्था कराने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने रोहतास जिला परिषद के माध्यमिक शिक्षकों को भरोसा दिया कि उन्हें एक माह के भीतर नियोजन पत्र मिल जायेगा। सत्येन्द्र कुमार सिंह, धर्मेन्द्र त्रिपाठी और शिव किशोर ठाकुर ने बताया कि गत वर्ष 76 शिक्षकों का चयन हुआ लेकिन बहाली नहीं हुई। बिहार बंगाली एसोसिएशन के कैप्टन दिलीप सिन्हा ने सरकारी स्कूलों में बांग्लाभाषी शिक्षकों की नियुक्ित की मांग की। उनका कहना था कि राज्य में बांग्ला पढ़ने वाले छात्रों की संख्या 36 हजार से अधिक है लेकिन शिक्षक मात्र 34 हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 4 साल से छात्रवृत्ति बंद, कर्मचारी मांगते कमीशन