अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज फिर सर्वदलीय बैठक

ेंद्रीय गृहमंत्रालय ने मुजफ्फराबाद कूच जसी घटनाओं को रोकने के लिए यह सुनिश्चित करने का फैसला किया है कि जम्मू में हालात तेजी सामान्य बनाने के लिए शांति वार्ता प्रयास तेज किए जाएं। इस बीच प्रधानमंत्री ने हालात पर चर्चा के लिए बुधवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। केंद्र व राज्य सरकार स्तर पर शांति वार्ता का ठोस तंत्र विकसित करने का फैसला हुआ है, जिससे आंदोलनकारियों की तात्कालिक व दीर्घकालिक,हर छोटी बड़ी समस्याओं का सर्वमान्य हल तलाशा जा सके। गृहमंत्री शिवराज पाटिल की अध्यक्षता में हुई सर्वदलीय बैठक में तय हुआ कि शांति वार्ता में केंद्र की ओर से राजनैतिक लोगों के अलावा रिटायर जजों व सामाजिक क्षेत्रों में काम कर रहे निष्पक्ष लोगों को भी शामिल करना चाहिए। सरकार का पूरा ध्यान इस बात पर है कि किसी भी सूरत में जम्मू से घाटी को जाने वाले रास्तों की दोबारा नाकेबंदी न होने पाए। गृहमंत्री शिवराज पाटिल ने बैठक के बाद कहा कि मुजफ्फराबाद के रास्ते पाकिस्तान के साथ व्यापार बढ़ाने के बार में सरकार पहले से ही कदम उठा रही है। उनके अनुसार इस बार में पाकिस्तान की सरकार से वार्ता प्रकिया पहले ही प्रगति पर है। लेकिन बकौल गृहमंत्री सीमा के रास्ते व्यापार दोनों देशों की सहमति से ही मुमकिन हो सकता है। जम्मू- कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सरकार विवाद का ऐसा समाधान निकालना चाहती है, जो घाटी व कश्मीर दोनों ही पक्षों को पूरी तरह मंजूर हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आज फिर सर्वदलीय बैठक