अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आडवाणी की नसीहत लेकर लौटे खंडूरी

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री मेजर जनरल बीसी खंडूरी की कुर्सी पर खतरा हालांकि टल चुका है लेकिन मुश्किलें अभी खत्म नहीं हुई हैं। पार्टी ने इस मुद्दे को गंभीरता से लिया है। वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने आज खंडूरी को तलब किया। बताया जाता है कि उन्होंने खंडूरी से पूछा कि इतने विधायक और मंत्री उनके खिलाफ क्यों हैं। आडवाणी ने उन्हें असंतोष को संभालने के लिए खुद ही पहल करने की नसीहत दी। बहरहाल, आडवाणी की नसीहत लेकर खंडूरी वापस लौट गए। देर शाम आडवाणी ने विद्रोह को हवा दे रहे कोश्यारी को भी बुलाकर बातचीत की। आलाकमान का रुख साफ है कि वे खंडूरी को हटाकर दूसर राज्यों में गलत संदेश देना नहीं चाहते। इसलिए उन्हें हटाने की फिलहाल कोई संभावना नहीं है। ेिकन आलाकमान महसूस कर रहा है कि राज्य में पार्टी के समक्ष जो हालात हैं, वे गंभीर हैं। इस समस्या का हल निकालना जरूरी है। इसकी शुरूआत वे खंडूरी से ही चाहते हैं। खंडूरी देहरादून पहुंच चुके हैं और पार्टी के नेताओं की मानें तो मौजूदा परिस्थितियां बदलेंगी। खंडूरी विधायकों से सीधे बातचीत करंगे। प्रदेश अध्यक्ष बची सिंह रावत को भी इसमें सहयोग करने को कहा गया है। एक-दो दिन में कुछ वरिष्ठ नेताओं को भी देहरादून भेजे जाने की संभावना है। आडवाणी ने इस मुद्दे पर आज सुषमा स्वराज, राजनाथ सिंह और रामलाल से भी विचार-विमर्श किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आडवाणी की नसीहत लेकर लौटे खंडूरी