DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

बाबा के दरबार में..ड्ढr सावन का महीना,पवन कर शोर। जी हां, सावन का महीना फिल्मी गीतों में ही नहीं बाबा नगरी में शोर मचा रही है। देश-विदेश के भक्तों की भीड़ बाबा नगरी में उमड़ रही है। सभी अपनी मनोकामना लिए बाबा दरबार पहुंच रहे हैं। हमार राजनेता और अभिनेता भी भला पीछे कैसे रहते। डगमगाती कुर्सी की सलामती के लिए वे बाबा दरबार में मत्था टेक रहे हैं। जितनी बार मत्था टेकते हैं, उतनी ही बार कहते हैं: बाबा, कुर्सिया बचाये रखिओ । कुर्सिये पर सब कुछ बा। कुर्सिया बची, तो अगला सावन में फिर जल लेकर हाजिर होइब। कई नेता सपत्नीक बाबा दरबार में हाजिर हो रहे हैं। झारखंड के मुखिया भी गद्दी की सलामती के लिए सपत्नीक बाबा दरबार में हाजिर हुए। औघड़दानी बाबा अपने भक्तों को निराश नहीं करते। सो राजनेतागण बाबा दरबार में मत्था टेकने के बाद गदगद होकर निकलते हैं। मन ही मन गुनगुनाते हैं: ओ शंकर भोले कर दो मन की मुराद पूरी। बाबा दरबार के पुजारी फरमाते हैं बाबा अपने गरीब भक्तों की मुराद पूरी करने में भले कांूसी बरतें, लेकिन राजनेताओं की मनोकामना दिल खोलकर पूरी करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग