DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिका का ग्रेट गोल्डन ओलंपियन

वह हर पल एक रिकार्ड बनाता है। उसकी हर सफलता एक नया अध्याय लिखती है। अमेरिका के स्टार तैराक माइकल फेल्प्स ने यहां बीजिंग में तहलका मचाया हुआ है। फेल्प्स ने बुधवार को पहले 200 मीटर बटरफ्लाई और फिर 4 गुणा 200 फ्रीस्टाइल रिले जीतकर 10वां और 11वां खिताब जीता। ओलंपिक रिकार्ड वर्ण पदक का है जोकि 4 लोगों के नाम है। दसवां स्वर्ण जीतते ही फेल्प्स ने नया रिकार्ड कायम कर दिया था पर अमेरिका की धरती पर जन्मे इस अलौकिक युवक ने अभी रिकार्ड बनाना बंद नहीं किया है। जिस रफ्तार से वह सोने पर सोना हड़प रहे हैं उससे लगता है कि उनका रिकार्ड कोई तोड़ ही नहीं पाएगा। अभी जारी है आल टाइम ग्रेट बने फेल्प्स का अभियान। फेल्प्स पानी में कूद रहे हैं और एक नया रिकार्ड बना कर बाहर आ रहे हैं। यदि उन्हें कोई चुनौती दे कि उन्होंने कुछ स्वर्ण टीम स्पर्धा के भी जीते हैं तो उनके लिए भी फेल्प्स इंतजाम करते नजर आते हैं। अभी तक फेल्प्स ने व्यक्ितगत स्पर्धा के 7 स्वर्ण जीते हैं और अभी तीन प्रतियोगिताएं और हैं। व्यक्ितगत स्वर्ण का रिकार्ड अमेरिका के र इवरी के पास है जिन्होंने 100 से 108 तक 8 एथलेटिक स्वर्ण कब्जाए थे। किसी भी समय फेल्प्स उनका रिकार्ड भी तोड़ सकते हैं। बीजिंग में ही फेल्प्स को अभी दो व्यक्ितगत स्पर्धाओं में भाग लेना है। फिलहाल फेल्प्स का सबसे बड़ा ध्येय बीजिंग में मार्क स्पिट का रिकार्ड तोड़ना है। स्पिट ने 1में म्यूनिख के एक ही ओलंपिक में 7 गोल्ड मैडल जीते थे। उस रिकोर्ड को तोड़ने के लिए फेल्प्स ने एथेंस में काफी शानदार प्रदर्शन किया था पर वह 6 गोल्ड मैडल पर रुक गए थे। इस बार उन छह गोल्ड मैडल में उन्होंने 5 का इजाफा करके दुनिया में सर्वाधिक गोल्ड मैडल जीतने का कीर्तिमान तो बना दिया पर अभी उनकी नजर में 8 गोल्ड का सपना है। जिस रफ्तार से फेल्प्स ने 5 गोल्ड मैडल जीत लिए हैं उससे यह सपना जल्दी ही साकार होता नजर आ रहा है। अब 15 अगस्त को उन्हें 200 मीटर व्यक्ितगत मेडले में भाग लेना है जबकि 16 अगस्त को 100 मीटर बटरफ्लाई में शिरकत करनी है। एक ओलंपिक में आठवें गोल्ड के लिए फेल्प्स को पुरुषों की 4 गुणा 100 मीटर रिले को भी जीतना होगा। फेल्प्स ने पूरी साफगोई से कहा कि कभी मैं ओलंपियन बनने के सपने देखता था और आज जब मैं सर्वश्रेष्ठ बन रहा हूं तो मेर पास खुशी बयान करने के लिये अल्फाज नहीं हैं। ओलंपिक गोल्ड मैडल संभाल कर रखने के लिए होते हैं और इन्हें उम्र भर संभाल कर रखा जाता है। ये कभी बासी नहीं पड़ते। यह अहसास गुदगुदाता है। पदक जीतने के बाद अपने देश का राष्ट्रगान सुनना और गले में सोने का तमगा होना एक ऐसा अहसास है जिसे बयान नहीं किया जा सकता। फेल्प्स को अभी तीन और स्पर्धाओं में शिरकत करनी है। फेल्प्स के लिए पदक जीतने के अभी और मौके हैं। फेल्प्स का बीजिंग ओलंपिक में कीर्तिमान तोड़ने का दौर कुछ इस कदर जारी है कि वह रिकार्ड दर रिकार्ड बनाए जा रहे हैं। लोग हैरान हैं कि वह इतना जबर्दस्त प्रदर्शन कैसे कर पा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अमेरिका का ग्रेट गोल्डन ओलंपियन