अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंजीनियरों के ‘कौशल’ का पूर्ण उपयोग होगा

राज्य सरकार नवनियुक्त इंजीनियरों के ‘कौशल’ का पूर्ण उपयोग करगी। खास प्रक्षेत्र में कुशल और प्रशिक्षित इंजीनियरों को उसी क्षेत्र में नई जिम्मेवारी दी जाएगी। उच्च शिक्षा प्राप्त इंजीनियरों को विशेष काम में लगाया जाएगा। यही नहीं नए इंजीनियरों में से कुछ खास लोगों का चयन कर उन्हें अभी से ‘प्लानिंग’ में लगाया जाएगा ताकि एक समय के बाद वे प्लानिंग के ‘मास्टर’ माने जाएं और फिर राज्य के विकास में उनकी भूमिका अहम हो सके। 1वर्षो के बाद बड़ी संख्या में पहली बार इंजीनियरों की बहाली की गई है, लिहाजा नए इंजीनियरों के बूते सरकार ने भविष्य की तैयारी अभी से शुरू कर दी है।ड्ढr ड्ढr पिछले दिनों राज्य सरकार ने 367 इंजीनियरों की नियुक्ित की है। इनमें से कई एमटेक डिग्रीधारी हैं तो कई विभिन्न विषयों के विशेषज्ञ। उनकी अभिरुचि भी उसी ‘खास’ फील्ड में योगदान देने की है। कई इंजीनियर जल संसाधन विभाग में योगदान दे रहे हैं, जबकि उनकी विशेषज्ञता रोड या निर्माण या फिर ऑटोमोबाइल में है। सरकार ऐसे इंजीनियरों को चिह्न्ति कर उन्हें संबंधित फील्ड में सक्रिय भूमिका निभाने की जिम्मेवारी देगी। ऑटोमोबाइल इंजीनियरों की मांग करने का मन परिवहन विभाग पहले ही बना चुका है जबकि कुछ को रोड निर्माण के क्षेत्र में देने की योजना है। एक वरीय अधिकारी की मानें तो सरकार खास प्रतिभावान इंजीनियरों का चयन कर उन्हें ‘प्लानिंग’ के लिए तैयार करना चाहती है। इसके पहले उन्हें वरीय इंजीनियरों के साथ प्रशिक्षण देने की योजना है ताकि सीनियर साथी के साथ काम कर वे अच्छा-खासा अनुभव ले सकें।ड्ढr ड्ढr इस समय राज्य सरकार के पास प्लानिंग के लिए अच्छे इंजीनियरों की घोर कमी है। यही नहीं विभिन्न वक्र्स विभागों को विशेषज्ञ इंजीनियरों की कमी से जूझना पड़ रहा है। नए इंजीनियरों के आने के बाद सरकार दोनों मोर्चे को दुरुस्त करने का मन बना चुकी है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इंजीनियरों के ‘कौशल’ का पूर्ण उपयोग होगा