अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस माह गरीबों को अंत्योदय पर भी आफत

अंत्योदय योजना के गरीबों को भात पर भी आफत हो गयी है। वैट पर निर्णय नहीं होने के कारण उन्हें इस माह अनाज नहीं मिलेगा। नतीजा ये लोग भूखे पेट वोट करने पहुंचेंगे बूथों पर। झारखंड में इस योजना के लाभुकों की संख्या साढ़े आठ लाख है। अनाज नहीं मिलने के कारण इस योजना के साढ़े आठ लाख परिवारों के समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। परंतु इसे देखनेवाला कोई नहीं है। नेताजी वोट मांगने के लिए इनके घर तो जा रहे हैं, पर उनकी भूख मिटाने के मामले में चुप्पी साध ले रहे हैं। बताते चलें कि राज्य सरकार की अदूरदर्शिता के कारण सिर्फ अंत्योदय योजना ही नहीं बल्कि बीपीएल योजना के लाभुकों को भी अनाज नहीं मिला है। झारखंड में एक अप्रैल से वैट लागू हो गया है। सरकार को इस बात की जानकारी थी। फिर भी गरीबों को अनाज देने की दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गयी। वैट का हवाला देकर राज्य खाद्य निगम ने गरीबों का अनाज रोक दिया और सरकार देखती रह गयी। एक ओर जहां गरीबों के घर में चूल्हे नहीं जल रहे हैं, वहीं 1दिन बाद भी राज्य सरकार की नींद नहीं खुली और भारतीय खाद्य निगम से 0 फीसदी खाद्यान्न लैप्स कर गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इस माह गरीबों को अंत्योदय पर भी आफत