DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनीति में जाति का फामरूला बेमानी

जल संसाधन और परिवहन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि बिहार की राजनीति में जाति का फामरूला बेमानी हो चुका है। अब यहां लोग विकास की बात करते हैं। जनता के लिए विकास ही एकमात्र मुद्दा है। शनिवार को प्रदेश जदयू कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में श्री यादव ने कहा कि अगर एमवाई फामरूला प्रभावी होता तब तो भागलपुर और बिक्रमगंज के उपचुनावों में एनडीए को हार जाना चाहिए था। दरअसल राजद के साथ अब न तो यादव हैं और न ही मुसलमान। लोकसभा चुनाव में यह बात और भी साफ हो जायेगी। श्री यादव ने कहा कि लोग किसी न किसी राजनीतिक दल से जुड़ते जरूर हैं लेकिन जनता किसी की निजी संपत्ति नहीं होती। अगर दल उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा तो जनता उसे दरकिनार करने में भी देर नहीं लगाती।ड्ढr ड्ढr बिहार में बड़े पैमाने पर जन कल्याण और विकास के कार्य शुरू किये गये हैं। दुर्भाग्यवश कुछ लोगों को हमारा काम दिख नहीं रहा है। जनता ऐसे लोगों को अगले चुनाव में सबक सिखायेगी। संवाददाता सम्मेलन में पहले पार्टी कार्यालय में आयोजित सादे समारोह में बाढ़ से विधानसभा का चुनाव लड़ चुके और राजद से करीबी रिश्ता रखने वाले योगेद्र प्रसाद यादव जदयू में शामिल हो गये। इस मौके पर विधानसभा में सत्तारूढ़ दल के मुख्य सचेतक श्रवण कुमार, विधानपार्षद संजय कुमार सिंह, विधायक ज्ञानेद्र सिंह ज्ञानू, पूर्व केद्रीय मंत्री दशई चौधरी प्रदेश महासचिव सह प्रवक्ता रविन्द्र सिंह और डॉ. नवीन कुमार आर्य भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजनीति में जाति का फामरूला बेमानी