DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तानी कैदी सनाउल्ला की हालत स्थिर

पाकिस्तानी कैदी सनाउल्ला की हालत स्थिर

जम्मू की जेल में पाकिस्तानी कैदी सनाउल्ला रानजेय पर हमले को अफसोसजनक करार देते हुए भारत ने शुक्रवार को कहा कि उसकी हालत स्थिर है और उसने आश्वासन दिया कि दोषी दंडित किए जाएंगे। उधर, पाकिस्तान ने उसे तत्काल वापस भेजने की मांग की।

पाकिस्तानी उच्चायोग ने 52 वर्षीय सनाउल्ला के लिए तत्काल राजनयिक पहुंच उपलब्ध कराने की मांग की। इस पर भारत ने कहा कि उसका इलाज कर रहे डॉक्टर यदि इस बात इजाजत दे देते हैं तो अनुमति दे दी जाएगी। सनाउल्ला उम्रकैद की सजा काट रहा था। उसे टाडा कानून के तहत दोषी ठहराया गया। उसे 1999 में गिरफ्तार किया गया था।

यहां उच्चायोग के प्रेस अताशे ने कहा कि पाकिस्तानी उच्चोग ने गंभीर चिंता दिखायी है। उसने विदेश मंत्रालय के समक्ष जम्मू की कोट भालवाल जेल में पाकिस्तानी कैदी सनाउल्ला पर हमले का मुददा उठाया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने इलाज के लिए सनाउल्ला को मानवीय आधार पर तत्काल वापस भेजने की मांग की है।

पाकिस्तान ने सनाउल्ला को एयए एम्बुलेंस से पाकिस्तान भेजने की मांग की है। अताशे ने कहा कि तत्काल राजनयिक पहुंच उपलब्ध कराने मांग के अलावा उच्चायोग ने इस घटना, कैदी को उपलब्ध करायी जा रही चिकित्सा सुविधा एवं अन्य पाकिस्तानी कैदियों की सुरक्षा के लिए उठाये गए कदम का विस्तृत ब्यौरा भी मांगा।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने यहां कहा कि हमें इस अफसोसजनक घटना की जानकारी है कि जम्मू की जेल में आज एक अन्य कैदी से कहासुनी के दौरान पाकिस्तानी कैदी सनाउल्ला घायल हो गया। मामले की जांच की जा रही है और दोषी दंडित किए जायेंगे। हिरासत में चल रहे कैदियों की सुरक्षा जेल प्रशासन का जिम्मा है और आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

उन्होंने कहा कि हम इस मामले पर पाकिस्तानी उच्चायोग के संपर्क में हैं। घायल का इलाज चल रहा है और जब मरीज की स्थिति सुधरेगी, राजनयिक पहुंच उपलब्ध करायी जाएगी।      उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी कैदी की हालत स्थिर है लेकिन डॉक्टर उस पर नजर रख रहे हैं।
     
हमले के तुरंत बाद सनाउल्ला को कोट बालवाल जेल से जम्मू के सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया। वहां जब डाक्टरों ने कहा कि उसकी हालत नाजुक है तब उसे एयर एम्बुलेंस से चंडीगढ के पीजीआई (अस्पताल) ले जाया गया। सनाउल्ला पाकिस्तान के सियालकोट का रहने वाला है।

सनाउल्ला पर हमला पाकिस्तान में भारतीय कैदी सरबजीत सिंह की मौत के एक दिन बाद हुआ है। लाहौर की जेल में जानलेवा हमला होने के बाद सरबजीत की मौत हो गयी। पिछले सप्ताह लाहौर की कोट लखपत जेल में कम से कम छह कैदियों ने 49 वर्षीय सरबजीत पर घातक हमला किया था, जिससे उसे गंभीर चोटें आयी थी। कैदियों ने ईंट से उसके सिर पर वार किया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तानी जेल में दो भारतीय कैदियों की मौत और जम्मू की जेल में पाकिस्तानी कैदी पर हमला जैसी दुखद घटनाओं को देखते हुए इस बात का जायजा लेना जरूरी है कि एक दूसरे के यहां जेलों में भारतीय एवं पाकिस्तानी कैदियों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त है या नहीं।

उन्होंने कहा कि इसके लिए, हम दोनों देशों के संबंधित प्रशासनों की बैठक बुला रहे हैं ताकि भविष्य में ऐसी दुखद घटनाओं को रोकने के लिए सिफारिशों का अध्ययन किया जाए और उनमें से जरूरी सिफारिशें लागू की जाए।

प्रवक्ता ने इस संदर्भ में जेलों में बंद पाकिस्तानी कैदियों की सुरक्षा के सिलसिले में विभिन्न राज्यों को भेजे गए परामर्श का भी जिक्र किया। पाकिस्तानी जेलों में 535 भारतीय कैदी हैं जबकि भारतीय जेलों में 270 पाकिस्तानी कैदी हैं।

बाद में भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सलमान बशीर ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि राजनयिक पहुंच संबंधी समझौते का पूरी तरह सम्मान किया जाए और उसका पालन हो। उन्होंने कहा कि मैं सोचता हूं कि पाकिस्तान भारत में पाकिस्तानी कैदियों की दशा की निष्पक्ष जांच के विरूद्ध नहीं होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाकिस्तानी कैदी सनाउल्ला की हालत स्थिर