अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निवेश में रिकॉर्ड तोड़ बढ़ोत्तरी

वैश्विक स्तर पर मंदी के बावजूद देश में इस साल पहली छमाही का निवेश 10 लाख 50 हजार 0 करोड़ रु. रहा जो पिछले वर्ष अगस्त-दिसंबर के बीच 5 लाख 67 हजार 851 करोड़ रुपए था। वाणिज्य और उद्योग मंडल एसोचैम की रिपोर्ट के अनुसार इस साल पहली छमाही में निवेशकों ने महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, उडीसा, पश्चिम बंगाल तथा राजस्थान सहित दस राज्यों में विशेष रुझान दिखाया है। एसोचैम के अध्यक्ष सज्जन जिंदल ने रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि औद्योगिकीकरण के स्तर पर महाराष्ट्र तेजी से आगे बढ़ रहा है और ऊर्जा, रियल एस्टेट,ऑटोमोबाइल तथा जहाजरानी जैसे क्षेत्र में 1,20,065 करोड़ रु. का निवेश हुआ है। सबसे ज्यादा निवेश की घोषणा टाटा पॉवर ने की है। टाटा की ऊर्जा क्षेत्र में 25 हजार करोड़ रु. के निवेश से अगले पांच वर्षो में अपनी उत्पादन क्षमता 2368 मेगावाट से बढ़ाकर 12861 मेगावाट करने की योजना है। इसी तरह रिलायंस इंडस्ट्रीज की सेमी कंडक्टर तथा अन्य माइक्रो टेक्नोलॉजी के निर्माण के लिए निवेश की योजना है। कंपनी की घोषणा के अनुसार इस पर अगले 10 वषों के दौरान 21,666 करोड़ रु. का निवेश किया जाएगा। निवेशकों ने निवेश के लिए जिन दस राज्यों को सर्वाधिक तरजीह दी है उसमें कुल निवेश के 11.42 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ महाराष्ट्र शीर्ष पर है। इस क्रम में आंध्र प्रदेश 10.11 प्रतिशत के साथ दूसरे स्थान पर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: निवेश में रिकॉर्ड तोड़ बढ़ोत्तरी