अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तो मेधा लड़ेंगी लोस चुनाव!

राानीतिक दलों से निराश होने के बाद अबोनवादी और सामाािक संगठनों ने खुद चुनाव मैदान में उतरने का मन बना लिया है। कोई हैरत की बात नहीं कि आगामी लोकसभा चुनाव में मेधा पाटेकर और अरुणा राय ौसी सामाािक कार्यकर्ता मैदान में उतरोाएँ। यह लड़ाई बुद्धिाीवियों के संगठन लोक राानीतिक मंच के बैनर तले लड़ीोाएगी। मंच के संयोक व प्रख्यात पत्रकार कुलदीप नैयर ने रविवार को यहाँ पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि पिछले महीनेोयपुर में लोक राानीतिक मंच का गठन किया गया है। इसे देश के 210 सामाािक संगठनों का समर्थन है। मंच ने तय किया है कि लोकतंत्र की रक्षा व धर्मनिरपेक्ष और कल्याणकारी राय की स्थापना के लिए अब राानीतिक लड़ाई लड़नाोरूरी हो गया है।ड्ढr यह मंच गैर राानीतिक है लेकिन मंच अपने चुने हुए उम्मीदवारों को समर्थन देकर उन्हें चुनाव लड़ाएगा। ऐसे लोग ही देश को आगे लेोा सकते हैं। उन्होंने बताया कि मेधा पाटेकर से आग्रह किया गया है वह चुनाव लड़ें। एक हों किसान और मादूर लखनऊ। मादूरों व किसानों को मिलकर विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के खिलाफ भारत छोड़ो की आवाा उठानी होगी। वरिष्ठ स्तम्भकार कुलदीप नैय्यर ने यह अपील रविवार को आल इंडिया वर्कर्स के पहले महाधिवेशन में कार्यकर्ताओं से की।ड्ढr महाधिवेशन में विश्व व्यापार संगठन विरोधी संघर्ष के लिए 16 सूत्री साझा साम्रायवादी प्रस्ताव पारित किया गया।ड्ढr इसमें ठेका मादूरी का खात्मा करने का संकल्प लिया गया। काउन्सिल के अध्यक्ष ओपी सिन्हा को साधारण सभा का अध्यक्ष चुना गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तो मेधा लड़ेंगी लोस चुनाव!