DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मजदूरों का राष्ट्रव्यापी बंद, जनजीवन प्रभावित

ेंद्र सरकार की जनविरोधी आर्थिक नीतियों के विरोध और छह सूत्री मांगों के समर्थन में केंद्रीय वामपंथी मजदूर संगठनों की आेर से बुधवार आहूत दिन भर के राष्ट्रव्यापी बंद का देशभर में जनजीवन पर बुरा असर पड़ा है। माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) से संबद्ध मजदूर संगठन सेंटर फार इंडियन ट्रेड यूनियन्स (सीटू) सहित विभिन्न वामपंथी मजदूर संगठनों द्वारा आहूत बंद को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण (एएआई) के कर्मचारियों का समर्थन प्राप्त होने की वजह से सरकारी बैंकों में कामकाज बाधित रहा और स्थानीय इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से अनेक उड़ानें प्रभावित हुईं। जीएमआर समूह के अरुण अरोड़ा ने कहा कि हवाई अड्डे के निजीकरण को लेकर एएआई के कर्मचारियों के हड़ताल में शामिल होने के कारण सबसे अधिक दिल्ली, कोलकाता की उड़ानें प्रभावित हुई है। कोलकाता हवाई अड्डे पर बंद का व्यापक असर रहा। भारतीय स्टेट बैंक और रिजर्व बैंक को छोड़कर सार्वजनिक क्षेत्र के अनेक बैंकों में बंद के कारण कामकाज ठप रहा। उधर उत्तर रेलवे के सूत्रों के अनुसार दिल्ली क्षेत्र में रेलगाड़ियों का परिचालन सामान्य रहा। बंद का पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में व्यापक असर दिखा। यहां दुकाने और बाजार बंद रहे। सड़कों पर वाहन नही चले तथा रेल और वायु सेवाएं भी बंद से बुरी तरह प्रभावित रहीं। औद्योगिक उत्पादन पर भी बंद का बुरा असर पड़ा। सरकारी और निजी कार्यालयों के साथ साथ बैंको और अन्य वित्तीय संस्थानों में भी कामकाज नही हुआ। पुलिस महानिरीक्षक राज कनौजिया ने बताया कि फिलहाल राय में कहीं से भी अप्रिय घटना की सूचना नही है। रेलवे सूत्रों ने बताया कि लंबी दूरी की गाड़ियों को विभिन्न स्थानों पर रोक दिया गया है तथा पूर्वी और दक्षिणी संभाग के सियालदाह और हावड.ा रेलवे स्टेशनों से लोकल गाड़ियों का संचालन स्थगित रहा। हवाई अड्डे के सूत्रों के अनुसार बुधवार सुबह से कोलकाता हवाई अड्डे पर एक भी जहाज नही उतर पाया, जबकि इंडियन एयर लाइंस के यहां से दो, किंगफिशर के तीन और जेट एयरवेज के एक विमान ने उड़ान भरी। उधर उड़ीसा में भी बंद की वजह से राज्य के कई हिस्सों में रेल एवं सड़क यातायात बाधित हुआ। राज्य के पुलिस महानिरीक्षक प्रदीप कपूर ने बताया कि बंद की वजह से बैंक, बीमा कार्यालयों, केंद्र सरकार के कार्यालयों और रेल यातायात पर असर पड़ा। आरंभिक खबरों के आधार पर उन्होंने बताया कि राज्य की राजधानी भुवनेश्वर में बसें नहीं चल रहीं। राज्य के कई हिस्सों में पेट्रोल पंप बंद भी हैं। भुवनेश्वर में केंद्र सरकार के कार्यालयों की बाहर सैंकड़ों लोगों ने प्रदर्शन किए। प्रदर्शनकारियों ने केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की, टायर जलाए और कई स्थानों पर वाहनों को रोका। कपूर ने बताया, ‘‘जिन इलाकों में वामंपथी यूनियनें सक्रिय हैं, वहां बंद का असर व्यापक रहा है।’’ पूर्वी तट रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी जेपी मिश्रा ने कहा कि भद्रक, बालासोर, पुरी, कटक और भुवनेश्वर में कई यात्री रेलगाड़ियों को रोका गया।ड्ढr उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने तलचर स्टेशन पर मालगाड़ियों को भी रोका। केरल में भी बंद के दौरान सामान्य जनजीवन अस्तव्यस्त रहा। सड़कों पर वाहन नहीं चले और बंद समर्थकों के विभिन्न स्थानों पर रेलमार्ग अवरूद्ध करने के कारण रेल सेवाएं बाधित हुईं। कोझिकोड और तिरूवनंतपुरम में प्रदर्शनकारी तड़के से ही पटरियों पर बैठ गए। प्रशासन को कई रेलगाड़ियां रद्द करनी पड़ीं तथा कई के समय में बदलाव करना पड़ा। अधिकारियों के मुताबिक बंद को देखते हुए रेलवे के पलड़ मंडल में 15 यात्री रेलगाड़ियां रद्द कर दी गई हैं। रेलगाड़ियों के बीच मार्ग में ही रूक जाने की वजह से हजारों यात्री रास्ते में फंसे हुए हैं। कोझिकोड हवाई अड्डे के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शनों से विमान सेवाओं पर असर नहीं पड़ा।’’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मजदूरों का राष्ट्रव्यापी बंद, जनजीवन प्रभावित