वाम के बंद का राज्य में व्यापक असर - वाम के बंद का राज्य में व्यापक असर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाम के बंद का राज्य में व्यापक असर

वामपंथी दलों एवं विभिन्न कर्मचारी व मजदूर संगठनों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का राज्य में व्यापक असर देखा गया। कई जगहों पर जोरदार प्रदर्शन किया गया। इस दौरान कहीं तोड़फोड भी हुई। बुधवार को जिला मुख्यालय के सभी सरकारी प्रतिष्ठान एवं बैंकिंग संस्थाएं बंद रहीं, वहीं जिले के औद्योगिक क्षेत्र चतरो में मजदूर संगठन समिति ने गिरिडीह-टुंडी मार्ग पर चलने वाले वाहनों को निशाना बताया। दर्जनाधिक वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। शहर में भाकपा माले ने अपने जेल भरो अभियान के तहत विशाल जुलूस निकाला। केन्द्र एवं राज्य की यूपीए सरकार के खिलाफ जनसंघर्ष को तेज करने के आह्वान के साथ पूर शहर में प्रतिवाद मार्च किया। हाारीबाग में बंद के मद्देनजर 20 अगस्त की सुबह छह बजे से ही बंद समर्थकों ने सड़कों पर निकल कर जगह- जगह चक्का जाम कर दिया। आंदोलनकारियों ने जिला परिषद चौराहे को कब्जे में ले लिया और वहीं सभी धरने पर बैठ गये।ड्ढr इस वजह से रांची- पटना मार्ग घंटों जाम रहा। इस दौरान मार्ग से गुजर रहे सेना के जवानों ने मार्ग को जाम पाकर जिला परिषद चौराहे पर आंदोलनकारियों की लाठियां और डंडे छीन करके अचानक लाठीचार्ज शुरू कर दिया। जिससे भगदड़ मची और आंदोनलकारी वहां से भाग खड़े हुए। कोडरमा कार्यालय के अनुसार आम हड़ताल के मद्देनजर वामदलों ने जगह-ागह सड़क और रल सेवा बाधित की। इसके आरोप में 283 वाम नेताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।ोतरा संवाददाता के अनुसार चतरा जिला में मिलाजुला असर रहा। बंद को लेकर यात्री वाहन नहीं चले, लेकिन दुकानें खुली रहीं। मेदिनीनगर संवाददाता के अनुसार वामपंथी संगठनों की ओर से आहूत आम हड़ताल पलामू में सफल रहा। इस क्रम में धरना-प्र्दशन के साथ और कार्यालयों में कामकाज ठप रहे। इसी तरह लातेहार में बंद सफल रहा। कई जगह तालेबंदी हुई। गढ़वा में बंद के मद्देनजर सभा आयोजित की गयी। बंद का प्रभाव जिले में दिखा। जमशेदपुर में मिलाजुला प्रभाव परमाणु करार एवं महंगाई के खिलाफ वामदलों के बंद का कोल्हान में मिलाजुला असर रहा। बंद कराने वामदलों के कार्यकर्ता सड़क पर उतरे और बंद में सहयोग की शांतिपूर्ण अपील की। एक सौ बंद समर्थकों की गिरफ्तारी भी हुई। हालांकि, सबों को शाम में मुक्त कर दिया गया। वैसे बंद का ट्रेनों के परिचालन पर असर जरूर पड़ा। टाटानगर सहित पश्चिम बंगाल के पुरुलिया एवं खड़गपुर रल मार्ग पर व्यापक असर पड़ा और दर्जनों ट्रेनों का परिचालन अस्त-व्यस्त हो गया। बंद समर्थकों ने टाटानगर से पुरुलिया एवं खड़गपुर रलमार्ग को आठ घंटे तक अवरुद्ध कर दिया। जोनल रल प्रशासन द्वारा बंद के मद्देनजर दोनों रलमार्गो की कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया और बंगाल की ओर जानेवाले याात्रियों को परशानी का सामना करना पड़ा। बंद का असर बैंक, जीवन बीमा निगम, स्वास्थ्य सेवा, दूरसंचार विभाग, शिक्षा विभाग समेत राज्य कर्मचारी संघ के आह्वान पर राज्य सरकार के अन्य कार्यालयों में भी देखा गया। एटक, सीटू, एकटू, बैंक, बीमा, पोस्ट एवं टेलीग्राफ कर्मचारी संघ ने भी कामकाज ठप कर हड़ताल में भाग लिया।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वाम के बंद का राज्य में व्यापक असर