अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टेल्कम फीडर से आपूर्ति बाधित

मानसून की जोरदार बारिश से बुधवार को एकबार फिर बिजली की आपूर्ति चरमरा गयी। पेसू कंट्रोल रूम के समीप जंफर कट जाने से टेल्कम फीडर से आपूर्ति कई घंटों तक बाधित रही। इसके चलते एसके मेमोरियल व पीएमसीएच सबस्टेशनों से जुड़े इलाकों में देर रात तक बिजली गुल रही। हालांकि पीएमसीएच को मछुआ टोली फीडर से वैकल्पिक व्यवस्था के तहत आपूर्ति जारी रही।ड्ढr ड्ढr शाम करीब 4.30 बजे बारिश के दौरान यह गड़बड़ी उत्पन्न हुई। इसके बाद एसके मेमोरियल फीडर से जुड़े अशोक राजपथ, बारीपथ व सिविल कोर्ट क्षेत्र, पीएमसीएच सबस्टेशन से जुड़े पटना मार्केट व यूनिवर्सिटी इलाके में शाम से देर रात तक अंधेरा पसरा रहा। इतने देर तक बिजली गुल रहने से पानी की भी किल्लत हो गयी।ड्ढr ड्ढr मालूम हो कि मंगलवार को भी इस इलाके में लगभग बीस घंटे तक बिजली गुल रही थी। हालांकि पीएमसीएच व गोविंद मित्रा रोड सबस्टेशनों से आपूर्ति जारी रही। इधर बारिश की वजह से फॉल्ट ढूंढ़ने में पेसूकर्मियों के पसीने छूट गए। रात करीब नौ बजे जाकर फॉल्ट का पता चला। पेसू के जीएम सीएल प्रकाश के मुताबिक सिंगल फेज हो जाने से टेल्कम फीडर से आपूर्ति बाधित हुई। डेढ़ महीने बाद कांटी में बिजली उत्पादन शुरूड्ढr पटना(का.सं.)। लगभग डेढ़ महीने बाद कांटी थर्मल में बिजली उत्पादन शुरू हुआ। बुधवार को यहां से 70 से 80 मेगावाट के बीच बिजली मिली। दूसरी ओर फरक्का व तालचर में कोयले की कमी से उत्पादन घट गया है। इस वजह से सेंट्रल सेक्टर से बुधवार को सूबे को 1022 मेगावाट बिजली मिली। दिन में तो तालचर में 550 मेगावाट बिजली का ही उत्पादन हो सका था। बिजली बोर्ड के प्रवक्ता एसके घोष के अनुसार कांटी में गत 2जून से उत्पादन ठप है। इसके चलते सूबे में बिजली की किल्लत हो गयी थी। हालांकि बरौनी में अब तक उत्पादन शुरू नहीं हो सका है। कांटी में दिन में कुछ देर के लिए ट्रिप भी कर गयी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: टेल्कम फीडर से आपूर्ति बाधित