अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जम्मू में कफ्यरू में 12 घंटों की ढील

ाम्मू में बुधवार की हिंसक घटनाओं के बाद गुरुवार तड़के पांच बजे से कफ्यरू में 12 घंटे की ढील दी गई। बुधवार की झड़पों में यहां 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे और कई पुलिस चौकियों और वाहनों को नुकसान पहुंचा था तथा सरकारी इमारतों को निशाना बनाया गया था। एक अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शनकारियों द्वारा बच्चों को सड़कों पर उतारने की धमकी देने के बाद बुधवार को कफ्यरू लागू करने की आवश्यकता थी। इसके बावजूद बच्चों समेत बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतरे। अधिकारी ने बताया कि पुलिस और अर्ध सैनिक बल स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एमके नारायणन ने बुधवार को श्रीनगर में राज्य की स्थिति समीक्षा के बाद क्षेत्र में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति पर चिंता जाहिर की। जम्मू में करीब दो महीने से जारी प्रदर्शनों में 12 लोग मारे जा चुके हैं, एक हजार से ज्यादा घायल हो गए हैं और भारी आर्थिक नुकसान हुआ है। श्री अमरनाथ यात्रा संघर्ष समिति पिछले करीब दो महीनों से श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड को आवंटित भूमि वापस लिए जाने के खिलाफ आंदोलन छेड़े हुए है। समिति ने तीन दिन के जेल भरो आंदोलन का आह्लान किया था। पुरूषों ने सोमवार, महिलाओं ने मंगलवार को गिरफ्तारियां दी थीं और बुधवार को गिरफ्तारियां देने की बारी बच्चों की थी। दोनों पक्षों की ओर से जारी विरोध प्रदर्शनों में राज्य भर में अब तक करीब 40 लोग मारे जा चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जम्मू में कफ्यरू में 12 घंटों की ढील