अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

24 घंटे के अंदर फैसला सुनायें स्पीकर

राज्य के भाजपा विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष आलमगीर आलम को ज्ञापन सौंप 24 घंटे के भीतर दल बदल कानून के उल्लंघन से जुड़े लगभग 11 मामलों पर फैसला सुनाने का अल्टीमेटम दिया है। भाजपा विधायकों ने कहा है कि 22 अगस्त की सुबह 10 बजे तक अगर लंबित मामलों पर फैसला नहीं सुनाया गया, तो साढ़े दस बजे से वे स्पीकर कार्यालय के समक्ष धरना देंगे। उपवास करंगे। यह जानकारी स्पीकर से उनके आवास पर मिलने के बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पीएन सिंह ने दी। देर शाम सरयू राय के आवास पर विधायकों की हुई बैठक में सुबह के फैसले पर मुहर लगायी गयी। यह भी तय किया गया कि 22 अगस्त की शाम फिर ताला मरांडी के आवास पर बैठक होगी। स्पीकर से मिलनेवालों में रघुवर दास, सत्यानंद भोक्ता, दिनेश षाडंगी, सरयू राय, सीपी सिंह, अशोक भगत और छत्रुराम महतो आदि शामिल थे।ड्ढr पीएन सिंह ने कहा कि लंबित मामलों के कारण ही विश्वास मत से पूर्व फिर हॉर्स ट्रेडिंग का बाजार बन रहा है। खरीद-फरोख्त शुरू हो गयी है। इससे स्पीकर पद की गरिमा भी कलंकित हो रही है। उन्होंने कहा कि स्पीकर कम से कम उन मामलों पर भी फैसला सुना दें जिसकी सुनवाई पूरी हो चुकी है।ड्ढr मामले को देख रहे हैं : स्पीकरड्ढr भाजपा विधायकों की मांग पर स्पीकर आलमगीर आलम ने कहा कि वह लंबित मामलों को देख रहे हैं। न्यायालय का मामला है। न्यायालय के समक्ष बहुत सारी परशानियां होतीं हैं। मान्य परंपरा भी है कि सौ दोषी छूट जाये पर एक भी निर्दोष को सजा न हो। विश्वासमत के दौरान व्हिप का उल्लंघन न हो क्या इसे वे सुनिश्चित करंगे, के जवाब में उनका कहना था कि जब पार्टियां उनसे लिखित शिकायत करंगीं, तब देखेंगे।ड्ढr नोटिस देने का फैसलाड्ढr कार्यालय संवाददाता के अनुसार भाजपा के अल्टीमेटम के मद्देनजर स्पीकर ने सभी 11 विधायकों को अंतिम रूप से अपना पक्ष रखने के लिए नोटिस जारी करने का निर्णय किया है। गुरुवार देर शाम विस सचिवालय के अधिकारियों से विचार-विमर्श के बाद यह फैसला किया गया।ड्ढr जिन पर लटक रही तलवारड्ढr एनोस एक्का, कमलेश कुमार सिंह, सुदेश महतो, बंधु तिर्की, भानूप्रताप शाही, रवीन्द्र राय, प्रदीप यादव, विष्णु भैया, मनोहर टेकरीवाल, कुंती सिंह, स्टीफन मरांडी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 24 घंटे के अंदर फैसला सुनायें स्पीकर