अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रतन टाटा ने सिंगुर की स्थिति पर निराशा जताई

टाटा मोटर लिमिटेड ने शुक्रवार को कहा कि यदि मजबूर किया गया तो सिंगुर से विश्व की सबसे छोटी कार काप्रस्तावित कारखाना किसी अन्य स्थान पर ले जाना बाध्यता होगी। टाटा समूह के अध्यक्ष रतन टाटा ने यहां कहा कि नैनो के निर्माण संयंत्र के खिलाफ यदि हिंसक प्रदर्शन जारी रहे तो 1500 करोड़ रूपए के निवेश के बावजूद इस संयंत्र को किसी अन्य स्थान पर ले जाना मजबूरी होगी। उन्होंने कहा कि िंसंगुर में जारी हिंसा और अड़चनें चिंता का विषय है। यह कर्मचारियों, संयंत्र और निवेश के प्रति चिंता बढ़ाती है। इससे कारोबार की प्रगति भी प्रभावित होती है। टाटा मोटर्स ने अक्टूबर में या अक्टूबर के आस पास नैनो कार को बाजार में उतारने की योजना बनाई थी। लेकिन इसके लिए जमीन अधिग्रहीत करने पर कंपनी को हिंसक प्रदर्शन और राजनीतिक विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इससे संयंत्र की लागत बढ़ रही है और नैनो का बाजार में लाने मंे देरी होने का खतरा पैदा हो गया है। टाटा ने कहा कि निवेश की कोई चिंता नहीं है, लेकिन कर्मचारियों की सुरक्षा प्राथमिकता है। उन्हांेने ने कहा कि यदि कोई यह सोचता है कि 1500 करोड़ रूपए निवेश करने के कारण हम यहां से नहीं हटेंगे तो वह गलत सोचता है। हम अपने लोगों की सुरक्षा के लिए सिंगुर छोड़ देंगे। टाटा ने कहा कि हमने सिंगुर में भारी निवेश किया है। यहां से हटने पर टाटा मोटर्स और शेयरधारकों को बड़ी कीमत चुकानी होगी। हमें अपने कर्मचारियों की िंचंता है। हम लोगों के लिए वांछित नहीं होना चाहते।ड्ढr टाटा ने इस संबंध में राय सरकार के अधिकारियों के साथ बातचीत की और कल रात राय के उद्योग मंत्री निरुपम सेन से विचार विमर्श किया। बैठक के बाद श्री सेन ने पत्रकारों को बताया कि टाटा के साथ सिंगुर की स्थिति पर बातचीत हुई है। उन्होंने 24 अगस्त से सिंगुर में होने वाले अनिश्चितकालीन आंदोलन पर चिंता जताई है। टाटा ने जनवरी में एक लाख रूपए में नैनो कार लाने की घोषणा की थी। इसका पश्चिम बंगाल की वाम सरकार ने सराहना की लेकिन इसके साथ ही विरोध प्रदर्शन भी शुरू हो गए। समस्याएं तब शुरू हुई जबकि राय सरकार ने नैनो के संयंत्र के लिए सिंगुर के किसानों से 1000 एकड़ भूमि अधिग्रहीत की। सरकार ने किसानों को मुआवजे की पेशकश की, लेकिन कुछ किसानों ने इसे लेने से इंकार करते हुए अपनी जमीन वापस करने की मांग की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रतन टाटा ने सिंगुर की स्थिति पर निराशा जताई