DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घाटी के लोगों को पाक से मदद की उम्मीद

ाम्मू व श्रीनगर में उत्पन्न अशांति की स्थिति का जायजा लेने राज्य के दौर पर गए भारतीय शांति मिशन के प्रतिनिधिमंडल ने राज्य के नागरिक समाज से बातचीत कर समस्या का समाधान निकालने की अपील है। उसने कहा कि सरकार असहाय स्थिति में है और सुरक्षा बल लोगों की नागरिक आजादी पर हमला कर रहे हैं। राज्य की दो दिवसीय यात्रा के बाद राजधानी लौटे विभिन्न समुदायों के दस सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने राज्य में अनेक संगठनों के प्रमुख नेताओं से हुई बातचीत के हवाले से शुक्रवार को आरोप लगाया कि जम्मू-व घाटी में तैनात सुरक्षा बल मददगार की भूमिका निभाने की जगह संगठित तौर पर अपनी मनमानी कर राज्य के लोगों के लिए मुश्किलें पैदा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासन मूक दर्शक बना हुआ है। शांति मिशन ने अमरनाथ यात्रा संघर्ष समिति के अध्यक्ष लीला किरण शर्मा, हुर्रियत कांफ्रेस के नेता मीरवायज उमर फारुक, सैयद अली शाह गिलानी के अलावा राज्यपाल एन.एन.वोरा आदि से मुलाकात की। भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. जेके जन के नेतृत्व में शांति मिशन दौर पर गए प्रतिनिधिमंडल में जमात ए-उलमा-ए- हिन्द के नेता व सांसद मौलाना महमूद ए मदनी, जमात ए-इस्लामी हिन्द मौलाना मुजतबा फारुख, ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस ए- मुशावरात के अध्यक्ष डा.जफर उल इस्लाम खान, राष्ट्रीय एकता परिषद के सदस्य नवेद हामिद, ऑल इंडिया मिल्ली कांफ्रेंस के सचिव मौजी खान, मजलिस फिक्रो अमल के अध्यक्ष मौलाना जीशान हिदायती, जनात-ए- उलेमा-ए-हिन्द के नियाद अहमद फारूकी, जमात-उल अहल हदीस के मौलाना मेहमूदुल हसन, क्रिश्चियन नेता फादर सैम्युल शामिल थे। डॉ. जन ने बताया कि अशांति की स्थिति का सामना कर रही राज्य की जनता का राजनीतिक दलों से मोहभंग हुआ है। प्रतिनिधिमंडल ने दावा किया कि राज्य में चल रहे उथल-पुथल के मौजूदा दौर में साम्प्रदायिक सद्भाव को खतरा पैदा हो गया है। लिहाजा घाटी के लोग पाक से मदद की उम्मीद करने को मजबूर हो रहे हैं जबकि जम्मू के लोग देश के नागरिक समाज से मदद की गुहार कर रहे हैं। पुलिसिया अत्याचार से आहत जम्मू व घाटी के प्रत्येक लोगों के पास बताने के लिए ढेरों दास्तान हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: घाटी के लोगों को पाक से मदद की उम्मीद