DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिंगुर को टा-टा करने की धमकी

पश्चिम बंगाल में नैनो कार परियोजना को लेकर जारी हिंसक विरोध से खिन्न होकर टाटा समूह के प्रमुख रतन टाटा ने शुक्रवार को धमकी दी कि मामला अगर नहीं सुलझा तो वह परियोजना को प. बंगाल से बाहर ले जाने को मजबूर होंगे। टाटा की इस धमकी से उद्योग जगत से लेकर राजनीतिक हलकों तक में खलबली है। टाटा ने संवाददाताओं से कहा कि बंगाल की जनता को यह तय करना है कि हमारी यहां जरूरत है या नहीं। उन्होंने कहा कि यदि परियोजना के खिलाफ हिंसा जारी रही तथा हमारे प्रबंधकों को मारा-पीटा जाता रहा तो हमें इस स्थान को छोड़ कर जाना पडेगा। दूसरी ओर, परियोजना के खिलाफ आंदोलन चला रहीं तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा है कि टाटा परियोजना छोड़ना चाहते है तो छोड़ दें, वह परियोजना के लिए ली गई फालतू जमीन किसानों को वापस करने की अपनी मांग से नहीं डिगेंगी। मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने बातचीत के जरिए समाधान का आग्रह करते हुए आंदोलन छेड़ने की अपील की है। उन्होंने कहा कि राज्य के लोग उद्योगों को चाहते हैं और इस परियोजना के पक्ष में हैं। कांग्रेस पार्टी और भाजपा ने सिंगुर परियोजना को ले कर चल रहे विवाद का ठीकरा वहां सत्तारूढ़ वाम मोर्चा सरकार के सर फोड़ा है। पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी ने नई दिल्ली में कहा कि कम्युनिस्टों के दमनकारी तरीकों के कारण सिंगूर का माहौल इतना बिगड़ गया है कि टाटा को परियोजना छोड़ने की धमकी देनी पड़ी है। कांग्रेस ने कहा कि सिंगुर में किसानों के आंदोलन के लिए प्रदेश की वामपंथी सरकार जिम्मेदार हैं क्योंकि सरकार ने जमीन अधिग्रहण में पारदर्शिता से काम नहीं किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सिंगुर को टा-टा करने की धमकी