अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कपड़े की दुकान में बनी थी हमले की योजना

गया जिले के इमामगंज थाना अंतर्गत रानीगंज में गुरुवार को पुलिस बल पर उग्रवादियों के हमले की साजिश एक कपड़े की दुकान में रची गयी थी। उग्रवादियों ने पंजाब नेशनल बैंक के सामने स्थित अनूप वस्त्रालय नामक एक कपड़ा दुकान में इस हमले की योजना बनायी थी। उग्रवादियों को पनाह देने वाले दुकानदार को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसी कांड में शामिल एक नक्सली घायलावस्था में औरंगाबाद में गिरफ्तार किया गया है।ड्ढr ड्ढr इस तरह हमले के मुतल्लिक दो लोग पकड़े गये हैं। दूसरी ओर माओवादियों से निपटने हेतु गया में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। इस बीच हमलावरों को पकड़ने के लिए जिले के तीन प्रखंडों में छापेमारी चल रही है। गुरुवार को हुए हमले के विरोध में शुक्रवार को रानीगंज में एक भी दुकान नहीं खुली। घटनास्थल पर आई्राी, ऑपरशन एसके भारद्वाज ने बताया कि इस दुकान के मालिक रामविलास प्रसाद के खिलाफ उग्रवादियों को संरक्षण देने और पुलिस बल पर हमले की साजिश रचने की प्राथमिकी दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में मार गए उग्रवादी की पहचान योगेश यादव उर्फ शिबू जी के रूप में हुई है। उन्होंने कहा कि गया जिले में सीआरपीएफ की तीन कंपनियां हैं जिनमें दो कंपनियों को इस अभियान में लगाया गया है।ड्ढr ड्ढr मगध रंज के डीआईजी कार्यालय में हुई बैठक में आईजी ऑपरशन एसके भारद्वाज, जोनल आईजी सुनील कुमार, मगध के डीआईजी प्रवीण वशिष्ठ समेत कई जिलों के एसपी ने भी हिस्सा लिया। औरंगाबाद में गिरफ्तार घायल नक्सली की पहचान मदनपुर निवासी विनय प्रजापति के रूप में की गयी है। वह अपना इलाज एक निजी क्लीनिक में करा रहा था। नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में शहीद पुलिस जमादार व सैप के जवानों को गया पुलिस लाइन में शुक्रवार को गमगीन माहौल में भावभीनी श्रद्धांजलि दी गयी। इस बीच पुलिस प्रशासन ने इस मुठभेड़ में बहादुरी दिखाने व सब जोनल कमांडर योगेश को मार गिराने वाले इमामगंज के थानाध्यक्ष चन्द्र कुमार व सैप के एक जवान को पुरस्कृत करने का फैसला लिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कपड़े की दुकान में बनी थी हमले की योजना