DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूची परखें,फिर आमंत्रित करं:राजग

झारखंड प्रदेश एनडीए ने राज्यपाल से मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों में संविधान की मर्यादाओं के अनुरूप निष्पक्ष भूमिका निभाने का आग्रह किया है। एनडीए ने कहा कि शिबू सोरन या फिर किसी अन्य को सरकार बनाने के लिए तभी आमंत्रित करं, जब उन्हें 42 विधायकों की हस्ताक्षरयुक्त सूची सौंपी जाये।ड्ढr सूची की सत्यता परख लें और यह भी सुनिश्चित कर लें कि सूची में किस दल के कौन-कौन विधायक हैं और कहीं दल-बदल कानून का उल्लंघन तो नहीं हो रहा है। अगर ऐसा नहीं होता है तो एनडीए राज्यव्यापी आंदोलन करगा। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पीएन सिंह, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष जलेश्वर महतो, डॉ दिनेश कुमार षाडंगी और उमाशंकर केडिया ने शुक्रवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में ये बातें कहीं। एनडीए के नेताओं ने राज्यपाल से यह भी आग्रह किया कि विधानसभा अध्यक्ष को भी निर्देशित करं कि दल-बदल कानून के लंबित मामलों का निष्पादन विश्वासमत से पहले कर लिया जाये।ड्ढr नेताओं ने कहा कि लंबित मामलों का निष्पादन नहीं होने के कारण ही खरीद-फरोख्त की स्थिति बन रही है। कांग्रेस और राजद की स्पष्ट भूमिका नहीं होने के कारण राज्य राजनीतिक अस्थिरता के दौर से गुजर रहा है। कांग्रेस बेहतर विकल्प की जगह बदतर विकल्प ढूंढने में जुट गया है। एनडीए नेताओं ने कहा कि नया जनादेश ही राज्य हित में है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और राजद को अब झारखंड में प्रयोग की राजनीति बंद करनी चाहिए। यह राज्य को बर्बादी की ओर ले जा रहा है और इससे विकास के काम बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं। जनता कांग्रेस को कभी माफ नहीं करगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सूची परखें,फिर आमंत्रित करं:राजग