अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गणतंत्र और राष्ट्रवाद को प्राथमिकता : प्रचंड

नेपाल में माआेवादी नेता पुष्पकमल दहल प्रचंड की नवगठित सरकार राष्ट्रवाद, गणतंत्र और सामाजिक-आर्थिक विकास पर पूरा जोर देगी। सरकार के गठन के बाद राष्ट्र के नाम अपने पहले संदेश में प्रचंड ने कहा कि लंबे इंतजार के बाद उनके नेतृत्व में बनी सरकार नेपाल की जनता की अपेक्षाआें को पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि सरकार की पहली प्राथमिकता देश की संप्रभुता, स्वतंत्रता और क्षेत्रीय अखंडता को अक्षुण्य रखना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर नेपाल ही नहीं रहेगा तो गणतंत्र सहित किसी भी उपलब्धि का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। इसलिए सरकार को सभी राजनीतिक दलों की मदद की दरकार रहेगी। लगभग आधे घंटे के संबोधन में प्रचंड ने कहा कि सामाजिक-आर्थिक विकास सुनिश्चित करने के लिए सरकार के समक्ष गरीबी और बेरोजगारी से निपटना सबसे बड़ी चुनौती होगी। उन्होंने कहा कि इन चुनौतियों का सामना करने के लिए सरकार कृषि, पर्यटन, जल संसाधन और अधोसंरचनात्मक क्षेत्र में विदेशी निवेश को बढावा देने को प्राथमिकता देगी। विदेश नीति के बारे में उन्होंने कहा कि सरकार अन्य देशों के साथ ‘पंचशील’ के सिद्धांत का पालन करते हुए द्विपक्षीय रिश्ते मजबूत करेगी। जिससे कि नेपाल को विश्व के मानचित्र पर महत्वपूर्ण स्थान दिलाया जा सके। गौरवतलब है कि वह प्रधानमंत्री के रूप में अपनी पहली विदेश यात्रा के रूप में चीन में चल आेलंपिक खेलों के समापन समारोह में हिस्सा लेने के लिए पेइचिंग रवाना होंगे। तीन दिन की इस यात्रा के दौरान वह चीन के राष्ट्रपति हुजिंताआे से भी मुलाकात करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गणतंत्र और राष्ट्रवाद को प्राथमिकता : प्रचंड