DA Image
30 मार्च, 2020|7:51|IST

अगली स्टोरी

उदारीकरण के लिए राजीव-मनमोहन की थैचर ने की थी सराहना

उदारीकरण के लिए राजीव-मनमोहन की थैचर ने की थी सराहना

बिट्रेन की पूर्व प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर ने भारत में आर्थिक उदारीकरण के लिए कभी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के विचारों की प्रशंसा की थी और मनमोहन सिंह ने उदारीकरण की साहसिक शुरुआत की थी। लौह महिला के नाम से मशहूर थैचर ने कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंह राव और मनमोहन सिंह को उदारीकरण की प्रक्रिया शुरू करते समय औद्योगिक लाइसेंसिंग व्यवस्था वाली पुरानी अफसरशाही की भारी समस्या से जूझना पड़ा।

ब्रिटेन की एकमात्र महिला प्रधानमंत्री थैचर का आज 87 साल की आयु में निधन हो गया। वह धार्मिक भारत को काफी पसंद करती थीं। बेंगलूर में 1995 में राजीव गांधी स्वर्ण जयंती स्मति व्याख्यान को संबोधित करते हुए थैचर ने कहा था कि राजीव ने आर्थिक उदारीकरण की नीति के बारे में सोचा था, जिसे प्रधानमंत्री पी वी नरसिंह राव और वित्त मंत्री मनमोहन सिंह ने मजबूती के साथ लागू किया।

थैचर ने कहा था कि इन सुधारों से से भारत की अर्थव्यवस्था में पहले से ही बदलाव शुरू हो चुके हैं। ये जितने तेजी से बढ़ेंगे, उतना ही ज्यादा फायदा होगा। वर्षों तक व्यापक नियंत्रण, योजना, राज्य स्वामित्व, हस्तक्षेप और कराधान ने देश को आगे बढ़ने से रोके रखा है। अब इसकी व्यापक क्षमता का दोहन शुरू हुआ है। कभी थैचर ने पश्चिम के संरक्षणवादी रुख को स्वार्थी करार दिया था।

उन्होंने कहा था कि 1991 से प्रधानमंत्री राव और वित्त मंत्री सिंह की नीतियों से साहसी तरीके से देश की अर्थव्यवस्था में बदलाव लाया जा रहा है। इनके जरिये कई बड़ी बाधाओं को हटाया गया है। उन्होंने कहा था कि कई अन्य एशियाई देशों की तुलना में भारत एक सुरक्षित लोकतंत्र और अच्छे प्रशासन की परंपरा है। यहां कानून है और निजी संपत्ति का व्यापक वितरण है। इन बातों से स्थिरता आती है और कारोबार को आगे बढ़ाने में मदद मिलती है।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:उदारीकरण के लिए राजीव-मनमोहन की थैचर ने की थी सराहना