अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मधु कोड़ा ने इस्तीफा दिया

आखिरकार झारखंड के मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। अपने कैबिनेट सहयोगी स्टीफन मरांडी, जोबा मांझी, हरिनारायण राय, चंद्रप्रकाश चौधरी और भानू प्रताप शाही के साथ शनिवार शाम वे राजभवन पहुंचे और राज्यपाल सैयद सिब्ते रजी को अपना त्यागपत्र सौंप दिया। मुख्यमंत्री का इस्तीफा स्वीकार करते हुए राज्यपाल ने उन्हें अगली व्यवस्था होने तक काम करने का निर्देश दिया है। राज्यपाल ने 25 अगस्त को कोड़ा सरकार के बहुमत के शक्ित परीक्षण के लिए विधानसभा का विशेष सत्र आहूत करने की अधिसूचना को भी विलोपित कर दिया। इस बीच राजद ने शिबू सोरन को समर्थन देने की घोषणा की है।ड्ढr ड्ढr शनिवार को दिल्ली से लौटने के बाद मुख्यमंत्री आवास में मधु कोड़ा ने अपने सहयोगी निर्दलीय मंत्रियों के साथ तकरीबन दो घंटे तक मंत्रणा की। आपसी विचार विमर्श के बाद सभी ने इस्तीफा देने का फैसला किया। इसके पहले वह शुक्रवार को दिल्ली में यूपीए के वरिष्ठ नेताओं से मिले। कांग्रेस और राजद नेताओं की ओर से उन्हें झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरन के लिए पद छोड़ने का निर्देश दिया गया था। दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से मिलने के बाद उन्हें सरकार से इस्तीफा देने का निर्देश मिल गया था। कोड़ा ने यूपीए नेताओं से स्पष्ट कर दिया था कि रांची में उनके सहयोगी मंत्रियों के साथ विचार-विमर्श के बाद ही कोई फैसला लेंगे। 17 अगस्त को झामुमो की समर्थन वापसी के बाद कोड़ा सरकार अल्पमत में आ गयी थी। इसके बाद तेजी से राजनीतिक घटनाक्रम बदला। राज्यपाल ने मधु कोड़ा से सदन में बहुमत साबित करने के लिए सात दिन का वक्त दिया था।ड्ढr ड्ढr इसके लिए 25 अगस्त को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया था। इसी बीच शिबू सोरन और उनके दल के नेता बुधवार को दिल्ली गये। वहां सोनिया गांधी और लालू प्रसाद से उनकी मुलाकात हुई। यूपीए नेताओं की ओर से शिबू सोरन को समर्थन देने का वायदा किया गया। गुरुवार को मुख्यमंत्री मधु कोड़ा अपने सहयोगी स्टीफन मरांडी के साथ दिल्ली पहुंचे। फिर चौबीस घंटे में राजनीतिक घटनाक्रम बदला। कोड़ा दिल्ली से लौटे और इसके बाद इस्तीफा का निर्णय हुआ। गुरुाी को परशानी होगी : कोड़ाड्ढr रांची (हि.ब्यू.)। कार्यवाहक मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने कहा है कि राज्य में नयी सरकार बनाने और चलाने में झामुमो प्रमुख शिबू सोरन को अधिक परशानी का सामना करना पड़ेगा। शनिवार को राज्यपाल को इस्तीफा सौंपने के बाद राजभवन के बाहर मीडिया से उन्होंने कहा : हम अपने 23 महीने के काम को लेकर जनता के बीच जायेंगे। अधूर काम को पूरा करंेगे। राज्य में शिबू सोरन के नेतृत्व में बननेवाली सरकार को समर्थन देने के मुद्दे पर कोड़ा ने साफ कहा कि अभी इस बार में कोई फैसला नहीं हुआ है। इस सवाल पर कि उन्हें यूपीए स्टीयरिंग कमिटी का अध्यक्ष बनाया जायेगा, कोड़ा ने कहा- मैं किसी कमिटी का अध्यक्ष नहीं बनूंगा। उन्होंने कहा कि अपने सहयोगी मंत्रियों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद वह इस नतीजे पर पहुंचे कि उनके पास बहुमत नहीं है। इसलिए उन्होंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया। अब आगे का फैसला राज्यपाल को करना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मधु कोड़ा ने इस्तीफा दिया