DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाल कृष्ण का रूप धर बच्चों ने लोगों को मोहा

ठुमक चलत नंदलाल मोर कान्हा को कोई मत देखो नजरिया लग जाएगी मधुबन में रंग खेले गुजरिया नंद के आनन्द भयो जय कन्हैयालाल की हाथी-घोड़ा पालकी जय कन्हैयालाल की .. बच्चों ने बालकृष्ण का मनमोहक रूप धरकर सबको भावविभोर कर दिया। माखन चुरकार खाते बालकृष्ण, मां यशोदा को सताते बालकृष्ण, गोपियों को परशान करते कृष्ण, बालकृष्ण के इन रूपों को सजीव सा उतार दिया नन्हें-नन्हें बच्चों ने।ड्ढr ड्ढr मौका था संस्कार भारती द्वारा शनिवार को रवीन्द्र भवन में जन्माष्टमी पर आयोजित कृष्ण रूपसज्जा व झांकी प्रतियोगिता का। इस मौके पर जयनारायण सिंह, डा.सूर्यभूषण प्रसाद,श्याम शर्मा आदि को सम्मानित भी किया गया। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री अश्विनी चौबे व कला व संस्कृति मंत्री रणू देवी ने मुख्य अतिथि के रूप में समारोह का आनंद उठाया। मंत्री श्री चौबे ने इस मौके पर कहा कि हम पाश्चात्य संस्कृति की नकल में अपने पर्व त्योहारों को भूलते जा रहे हैं। हमें अपनी कला व संस्कृति की अनुपम धरोहर को अक्षुण्ण बनाए रखना होगा। सभी राष्ट्रीय पर्व त्योहारों को मिलजुलकर मनाना होगा। हमें कृष्ण का रूप धर कंस रूपी समाज की विकृतियों को दूर करना होगा। कला मंत्री रणू देवी ने कहा कि लोग आज मानवीय मूल्यों को भूलते जा रहे हैं। अभिभावक समायाभाव के चलते बच्चों में उचित संस्कार देने में सक्षम नहीं हो पा रहे हैं। संस्था की महानगर अध्यक्ष डा.किरण शरण ने स्वागतभाषण किया। मंच संचालन लीना मिश्रा व डा.शांति जैन ने किया। इस मौके पर डा. दिवाकर तेजस्वी, अभिजीत कश्यप, डा.नवल किशोर सिंह, डा. जितेन्द्र सहाय,वीणा श्रीवास्तव भी उपस्थित थे। निर्णायक मंडली में डा. रमा रमण, डा.रीता दयाल, मिनती चकलानवीश, रखा चंद्रा व डा. मीरा वर्मा शामिल थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाल कृष्ण का रूप धर बच्चों ने लोगों को मोहा