अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों ने वनकर्मियों से लेवी वसूलनी शुरू की

वन अधिकारियों से लेवी वसूलनी शुरू की है नक्सलियों ने। इस घटना से वन अधिकारी परशान और दहशत में हैं। वन अधिकारियों का कहना है कि ब्लॉक के अधिकारियों से कमीशन के तौैर पर लेवी वसूलना नयी बात नहीं है। लेकिन जंगल में डय़ूटी करनेवाले वन अधिकारियों से लेवी वसूलने की नयी शुरुआत हुई है।ड्ढr नक्सलियों का दस्ता अब वन अधिकारियों के पास पहुंचता है और एक मोटी रकम की मांग करता है। वन अधिकारियों के समक्ष नयी समस्या आ गयी है कि वे उग्रवाद प्रभावित जंगलों में काम करते हुए किस प्रकार उनका सामना करंगे। क्योंकि राज्य में 0 फीसदी जंगल उग्रवाद प्रभावित है। जंगल में काम करनेवाले अधिकांश अधिकारी और कर्मी निहत्थे होते हैं। जंगलों में सुरक्षा और विकास के लिए विभाग द्वारा करोड़ों के बजट का काम कराया जाता है। अब तक नक्सलियों द्वारा कभी लेवी मांगने या किसी की हत्या की घटना नहीं हुई थी। रांर एलपी गुप्ता की हत्या पहली कड़ी है। अधिकारी इसको लेकर दहशत में हैं कि उग्रवाद प्रभावित जंगलों में डय़ूटी करना मौत को दावत देना है। अब नक्सलियों को या तो लेवी देना होगा या फिर तैयार रहना होगा। नक्सलियों के भय से कई अधिकारी जंगल में जाने से भी कतराने लगे हैं। विभाग ने सुरक्षा को लेकर वनकर्मियों को हथियारों से लैस करने की योजना बनायी थी, जो फाइलों में बंद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नक्सलियों ने वनकर्मियों से लेवी वसूलनी शुरू की