अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक

महीने, तीन सरकारं, चौथी बस आकार लेने को है। यह झारखंड में सरकार का एक और पॉलिटिकल काउंट है, जिसमें नया तड़का शिबू सोरन हैं। इस बार सरकार झारखंड आंदोलन के नायक के नेतृत्व में बनने जा रही है, जिसके सामने निर्दलीय विधायकों की महत्वाकांक्षा को काबू में रखना, राज्य की खोयी साख फिर से लौटाना, उग्रवाद, भ्रष्टाचार और कुव्यवस्था से निपटने की बड़ी चुनौती होगी। चालीस साल के आंदोलन से निकला चेहरा शिबू सोरेन अब उस सरकार के मुखिया होंगे, जिसे निर्दलीयों की नहीं, बल्कि मुकम्मल यूपीए की सरकार कहा जायेगा। अब उनके व्यक्ितत्व के साथ राज्य का शासन, प्रशासन, अस्मिता, गौरव और विकास की दृष्टि भी परखी जायेगी। यह काम गुरुाी ने करके दिखा दिया, तो वाह-वाह, वर्ना विफलता की आंच में पूरा यूपीए तपेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो टूक