अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्यावसायिक ट्रैक्टर-ट्रेलर पर ओटीएस लागू होगी

राज्य में पहली बार व्यावसायिक ट्रैक्टर-ट्रलर पर वन टाइम सेटलमेन्ट स्कीम (ओटीएस) लागू होगी। फिलहाल इसका लाभ कृषि कार्य में लगे ऐसे वाहनों को ही मिलता है। प्रथम चरण में योजना एक से 30 अक्तूबर तक चलाने की है। लिहाजा विभाग इस तैयारी में जुटा है कि व्यावसायिक कार्यो में लगे ट्रैक्टर-ट्रलरों से ओटीएस में 15 साल के लिए कितनी राशि वसूली जाए? हालांकि कृषि कार्य में लगे ट्रैक्टर-ट्रलरों से 15 वर्ष के लिए एकमुश्त क्रमश: 5,000-5,000 रुपये टैक्स वसूला जाता है।ड्ढr ड्ढr कृषि कार्य में लगे टैक्स डिफाल्टर वाहन मालिकों को ओटीएस का लाभ लेने के लिए इस आशय का शपथपत्र भी देना होगा। राज्य में बड़ी संख्या में ट्रैक्टर-ट्रलरों का बालू-गिट्टी-ईंट ढोने से लेकर यात्रियों की ढुलाई तक में उपयोग होता है। व्यावसायिक कार्यो में लगे वाहनों के मालिक को कृषि कार्य का शपथपत्र देने से रोकने के लिए अलग व्यवस्था की जा रही है। सूत्रों के अनुसार व्यावसायिक कार्यो में लगे टैक्स डिफाल्टर या बगैर निबंधन वाले ट्रैक्टर-ट्रलरों से 15 वर्ष के लिए लगभग 15 हजार रुपये टैक्स वसूलने को लेकर विचार-विमर्श जारी है जबकि सामान्य तौर पर इस श्रेणी में सालाना 2,000 रुपये के हिसाब से पंद्रह साल के लिए 30,000 रुपये लगते हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: व्यावसायिक ट्रैक्टर-ट्रेलर पर ओटीएस लागू होगी