DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक

झारखंड प्रांत की मांग को लेकर अपनी जिंदगी के चालीस वर्ष खर्च करने वाले शिबू सोरन की मुख्यमंत्री के रूप में ताजपोशी से सूबे में एक नयी उम्मीद का संचार हुआ है। एक नयी आशा की किरण प्रस्फुटित हुई है और झारखंड वासियों का विश्वास नये सिर से जगा है। सुधारवादी आन्दोलन को अंजाम तक पहुंचाने में सफल दिशोम गुरु झारखंड की जमीन से जुड़े नेता हैं, इसमें कोई दो मत नहीं। गरीबी, बेरोगारी और भ्रष्टाचार जसी चुनौतियों से सामना कर उसे समूल उखाड़ फेंकना शिबू-सरकार की सबसे बड़ी चुनौती है। उम्मीद की जानी चाहिए कि मुख्यमंत्री सोरन के नेतृत्व में गठित मंत्रिमंडल के सभी सदस्य इसके लिए दृढ़ प्रतिज्ञ होकर संकल्प लेंगे। जनता भी इस ताजपोशी के फलाफल को तभी आंकेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो टूक