DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्भस्थ शिशु को संगीत सुनवाने की कोशिश

हते हैं कि संगीत में बड़ी ताकत है जो सिर चढ़ कर बोलती है। फिर चाहे बेमौसम बरसात हो या शीरी की फरहाद को रिझाने की कोशिश या फिर हो अवसाद दूर करने के लिए संगीत का इस्तेमाल। संगीत की इस ताकत को देखते हुए अब उसका इस्तेमाल गर्भस्थ शिशु पर करने की अब कोशिश हो रही है। वो भी एक खास किस्म के बेबी आईपोड के जरिए। ये किंवदंतियां नहीं बल्कि वैज्ञानिक सत्य भी है कि संगीत का असर मनुष्यों, पेड़, पौधों पर ही नहीं होता बल्कि वह कई रोगों के उपचार में भी मददगार साबित हो रहा है। ब्रिटेन के वैज्ञानिक संगीत के इसी जादू का एहसास अब मां के गर्भ में स्थित शिशु को कराने के लिए एक ऐसा आईपोड तैयार कर रहे है जिसमें लगे विशेष स्पीकरों से निकलने वाली ध्वनि तरंगें सीधे गर्भस्थ शिशु तक पहुंच सकेंगी। इस प्रकार गर्भवती स्त्री अपने अजन्मे बच्चे को भी अपना मनपसंद मधुर संगीत सुनवा सकेगी। वैज्ञानिक यह पहले भी कहते रहे हैं कि संगीत मां के गर्भस्थ शिशु के मानसिक विकास के लिए उत्प्रेरक साबित होता है। भारतीय संस्कृति में भी जहां एक आेर गर्भवती महिला के लिए संगीत, सात्विक विचार और धार्मिक प्रवचन सुनने का विशेष महत्व बताया गया है। महाभारत में भी कहा गया है कि जब अर्जुन अपनी पत्नी को चक्रव्यूह को भेदना और उससे बाहर निकलना बता रहे थे तो उनकी पत्नी को नींद आ गई और वह केवल चक्रव्यूह को भेदना सुन पाई। उसे भेद कर बाहर निकलना नहीं आया। इस कारण उनका गर्भस्थ शिशु भी चक्रव्यूह रचना सुन पाया पर उससे बाहर निकलना नहीं।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गर्भस्थ शिशु को संगीत सुनवाने की कोशिश