अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस-राजद के ड्रामे से 48 घंटे हलकान रहे सत्ताधारी

ांग्रेस-राजद के आधे से अधिक विधायकों ने 48 घंटे तक खूब ड्रामा किया। सरकार गठन की पूर्व रात्रि से दूसर दिन तक इनके क्रियाकलापों से सत्ताधारी हलकान रहे। 27 अगस्त के दूसर पहर शिबू सोरन ने अपने मंत्रिमंडल के 11 साथियों के साथ शपथ ग्रहण किया। इससे एक दिन पहले कांग्रेस के साथी विधायक नाराज हो गये। जानकारी मिलने पर गुरुाी प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार बलमुचू के आवास पहुंचे। लंबी वार्ता हुई, जिसमें कांग्रेस ने न्यूनतम साझा कार्यक्रम, भ्रष्टाचार पर रोक, विकास की गति तेज करने, केंद्र प्रायोजित योजनाओं को लागू करने की मांग की।ड्ढr इसके अलावा शर्त रखी कि मंत्री के कुछ पद खाली रखे जायें। इरादा था बाद में मंत्रिमंडल में शामिल होने का। सरकार का चेहरा बदलने की भी मांग थी। गुरुाी ने ऐसा नहीं किया। इससे कांग्रेस के पांच विधायक बिदक गये। दूसर दिन इन्होंने राजद के चार विधायकों को भी अपने संग कर लिया। इसके बाद विरोध के स्वर प्रस्फुटित होने लगे। 28 अगस्त को कुछ विधायकों ने उड़ीसा जाने का प्रोग्राम बना लिया था, ताकि 2ो बहुमत साबित करने के समय वे हाउस में रहे ही नहीं।ड्ढr दोपहर में कांग्रेस विधायक दल के नेता मनोज कुमार यादव के आवास पर बैठक हुई। इसमें अन्नपूर्णा देवी, नियेल तिर्की, रामचंद्र सिंह, विदेश सिंह, चुन्ना सिंह, गोपाल शरण नाथ शाहदेव, इजराइल अंसारी आदि शामिल हुए। शाम चार बजे कांग्रेस-राजद के उपरोक्त विधायक स्पीकर आलमगीर आलम के आवास पहुंचे। वहां भी पांच बजे तक बैठक चली। इसमें दुर्गा सोरन भी शामिल थे। विधायकों ने मन की भड़ास निकाली। कहा कि उन्हें सम्मान नहीं मिल रहा है। मंत्रिमंडल में पुराने भ्रष्ट चेहरों को भी शामिल कर लिया गया है।ड्ढr कांग्रेस के विधायक एनोस एक्का को, तो राजद के लोग बंधु तिर्की को मंत्री पद से हटाने की मांग कर रहे थे। अंतत: प्रदेश प्रभारी अजय माकन आये और इनकी नाराजगी दूर हुई। नाराज विधायकों से बात करूंगा: माकनड्ढr रांची। झारखंड के कांग्रेस प्रभारी अजय माकन ने कहा है कि जरूरत पड़ने पर रांची आ गये हैं। यहां पर वह अपने सभी विधायकों से मिलकर उनकी समस्याओं को सुनेंगे। माकन गुरुवार की शाम डेक्कन की सेवा विमान से रांची आने के बाद एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात कर रहे थे। माकन से यह पूछने पर कि विधायक नयी सरकार द्वारा सम्मान नहीं मिलने से खासे नाराज हैं और समर्थन वापस लेने की भी बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी बात नहीं है। उनके विधायक व्यक्ितगत कारणों से नाराज नहीं होते। उनकी नाराजगी राज्यहित के लिए होगी, जो दूर कर दी जायेगी। यह पूछने पर कि क्या नये मुख्यमंत्री शिबू सोरन के बहुमत साबित करने के दौरान कुछ कांग्रेसी सदन से अनुपस्थित भी होंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के सभी विधायक नयी सरकार के साथ हैं।ड्ढr माबेल रिबेलो रांची पहुंचींड्ढr रांची। कांग्रेस की राज्यसभा सदस्य माबेल रिबेलो 28 अगस्त को सेवाविमान से रांची पहुंचीं। उन्होंने पार्टी विधायकों से भेंट की। रिबेलो ने कहा कि सभी विधायक एकाुट हैं। सदन में बहुमत साबित करने के दौरान वे शिबू सोरन के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के पक्ष में वोट करंगे। वह दो-तीन दिन झारखंड में रहकर संगठन का कामकाज देखेंगीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांग्रेस-राजद के ड्रामे से 48 घंटे हलकान रहे सत्ताधारी