DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवादा में कूपन के लिए हंगामा

बीपीएल अथवा एपीएल सूची से नाम गायब रहने से बौखलाए मोरमा पंचायत के सैकड़ों ग्रामीणों ने गुरुवार को दूसर दिन भी प्रखंड कार्यालय में जमकर हंगामा किया। जबकि मौके पर मौजूद मुखिया नरश प्रसाद पर महिलाओं ने चप्पल तान दी। हालांकि बुद्धिजीवियों के बीच बचाव के कारण कोई अप्रिय घटना नहीं घटी। मगर ग्रामीणों ने मुखिया को जमकर खरी-खोटी सुनाते हुए अपनी जाति के अधिकाधिक लोगों के नाम सूची में डलवाने का आरोप लगाया।ड्ढr ड्ढr ग्रामीणों का कहना था कि बीपीएल व एपीएल सूची में नाम नहीं रहने के कारण वे कूपन से वंचित रह गये। ऐसी स्थिति में उन्हें किरासन कैसे मिलेगा?पंचायत के मोरमा, कोशडिहरा, साथे, घोराही, कर्मा, चकबारा एवं बजवारा से सैकड़ों महिलाओं के साथ करीब पांच सौ की संख्या में पहुंचे ग्रामीणों का गुस्सा उस समय उबाल पर आ गया, जब लोगों ने बीडीओ को वहां नहीं पाया। आक्रोशित ग्रामीण कार्यालय का कामकाज ठप कर जमकर नारबाजी करने लगे। बाद में बीडीओ ने रजौली एसडीओ से दूरभाष पर वार्ता कर शुक्रवार को हॉकर के माध्यम से मोरमा में किरासन वितरण कराने का आश्वासन दिया।ड्ढr ड्ढr दलित महिलाओं ने एसडीओ को घेराड्ढr परिहारा (बेगूसराय) (सं.सू.)। सलौना पंचायत के विक्रम नदैल गांव की लगभग 30 दलित महिलाओं ने लाल पीलाकार्ड की मांग को लेकर एसडीओ कार्यालय का घेराव किया। फुलो देवी जौजे संजनी देवी पानो देवी व लछनिमिनियां देवी आदि ने आरोप लगाया कि उनका नाम एपीएल सूची में दर्ज है जबकि वे दलित मजदूर वर्ग की हैं मगर लाल पीलाकार्ड से वंचित रखा जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नवादा में कूपन के लिए हंगामा