DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वरुण गांधी को राहत, भड़काऊ भाषण मामले में बरी

वरुण गांधी को राहत, भड़काऊ भाषण मामले में बरी

उत्तर प्रदेश में पीलीभीत की एक अदालत ने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद वरुण गांधी को लोकसभा के पिछले चुनाव में दिए गए भड़काऊ भाषण के दूसरे आरोप से भी बरी कर दिया।

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) अब्दुल कयूम ने इससे पहले पिछले 27 फरवरी को देहात कोतवाली में दर्ज मामले में गांधी को बरी किया था। सीजेएम ने आज बरखेड़ा थाने में दर्ज मामले में भी गांधी को राहत दे दी।

गांधी के खिलाफ भड़काऊ भाषण मामले का मुकदमा अवामी कौंसिल फॉर डेमोक्रेसी के महासचिव मोहम्मद असद हयात ने दायर किया था। सीजेएम को इस मामले में पिछले एक मार्च को फैसला देना था, लेकिन याचिकाकर्ता के आग्रह पर इसकी तारीख आज तय की गई।

याचिकाकर्ता अदालत के 27 फरवरी के निर्णय को हाईकोर्ट में चुनौती देना चाहते थे। याचिका में कहा गया था कि गांधी का भाषण दो समुदाय में दूरी पैदा करने वाला था। दोनों मुकदमों में 24 गवाह थे और सभी मुकर गए।

अदालत का निर्णय आने के बाद गांधी ने कहा कि सच जीता है। उनके खिलाफ राजनीतिक साजिश के तहत मामले दर्ज कराए गए थे। अदालत पर उनका पहले से ही विश्वास था और आज के फैसले के बाद यह और मजबूत हुआ है।

गांधी को भड़काऊ भाषण मामले में गिरफ्तार भी किया गया था तथा वह करीब एक महीने तक एटा जेल में रहे थे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें रिहा किया गया था। इससे पूर्व पिछले सितम्बर में गांधी ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पत्र लिखकर मुकदमे को खत्म करने का आग्रह किया था।

गांधी ने पत्र में लिखा था कि राजनीतिक कारणों से मुकदमे लादे गए। उनके पत्र के बाद राज्य सरकार ने पीलीभीत के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर सहमति या असहमति देने को कहा था।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वरुण गांधी को राहत, भड़काऊ भाषण मामले में बरी