अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टरों के पक्ष में आईएमए

पीएमसीएच के आरोपी डॉक्टरों के समर्थन में आईएमए खड़ा हुआ है। आईएमए बिहार ने डिप्लोमा इन फार्मेसी की परीक्षा में हुई गड़बड़ी की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग सरकार से की है और कहा है कि जांच के बाद ही पीएमसीएच के आरोपी चार चिकित्सकों पर कार्रवाई होनी चाहिए। आईएमए का आरोप है कि इन्हें फंसाया गया है। फार्मेसी का काम चिकित्सकों से कराया गया। फिर उन्हें फंसाया जा रहा है। जबकि चिकित्सकों ने महा कुरियर का काम किया है। इस मुद्दे पर गुरुवार को आईएमए और बिहार स्टेट हेल्थ सर्विस एसोशिएशन ने आपातकालीन बैठक बुलाई। बैठक के बाद सरकार से मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग करने पर सहमति बनी। यह जानकारी आईएमए के सचिव डॉ. अरुण कुमार ठाकुर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी।ड्ढr ड्ढr इस मामले में पीएमसीएच के प्रचार्य डॉ. आरकेपी सिन्हा, सहायक प्रोफेसर (फारंसिक मेडिसीन) डॉ. अरविंद कुमार सिंह, फिाियोलॉजी के सहायक प्राध्यापक डॉ. अनिल कुमार सिंह, स्वास्थ्य विभाग के तत्कालीन उपनिदेशक डॉ. सच्चिदानन्द शर्मा को नामजद किया गया है। डॉ. ठाकुर ने बताया कि इन लोगों ने न तो उत्तरपुस्तिका की जांच की, न तो ये लोग परीक्षा के दौरान पर्यवेक्षक थे, न तो इन लोगों ने कोडिंग की और न ही रिाल्ट तैयार किया। फिर ये लोग इस गड़बड़ी में कैसे शामिल हो गए। डॉ. ठाकुर ने कहा कि आईएमए को संदेह है कि इन चिकित्सकों को फंसाया जा रहा है। सरकार ने पीएमसीएच के प्राचार्य आरकेपी सिन्हा को आदेश दिया था कि डिप्लोमा इन फार्मेसी की परीक्षा की उत्तरपुस्तिका की बीएचयू ले जाकर जांच कराएं। सिन्हा ने व्यस्तता के कारण इंकार कर दिया था, लेकिन दोबारा आदेश मिला तो इसकी व्यवस्था करनी पड़ी।ड्ढr ड्ढr डॉ. अरविंद कुमार सिंह और डॉ. अनिल कुमार को उत्तरपुस्तिका देकर बीएचयू भेज दिया। सीलबंद पुस्तिका संबंधित प्रोफेसर को देकर ये लोग लौट आए थे। इन लोगों को 15 दिन बाद बुलाया गया था। दोबारा जाने पर परीक्षक ने उत्तरपुस्तिकाएं सौंप दीं और कहा कि अंक भेज दिया है। इन लोगों ने जांच की गई उत्तरपुस्तिका को फार्मेसी के कंट्रोलर के पास जमा कर दिया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में डॉ. सहाानंद प्रसाद सिंह, डॉ. मंजूगीता मिश्रा, डॉ. कुसुम कपूर, डॉ. डीके चौधरी, डॉ. विजय कुमार सिंह, डॉ. अजय कुमार, डॉ. रांीत, डॉ. शिवेंद्र सिन्हा, डॉ. एसएल मंडल, डॉ. सच्चिदानंद भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डॉक्टरों के पक्ष में आईएमए