अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएमडब्ल्यू कांड में संजीव नंदा दोषी करार

राजधानी दिल्ली की पटियाला हाउस अदालत ने पूर्व नौसेना प्रमुख एस. एम. नंदा के पौत्र संजीव नंदा सहित चार लोगों को बी एम डब्ल्यू दुर्घटना मामले में दोषी करार दिया है। इस दुर्घटना में छह व्यक्ितयों की मौत हो गई थी। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विनोद कुमार ने खचाखच भरी अदालत में मंगलवाल को यह फैसला सुनाया। संजीव को भारतीय दंड संहिता की धारा 304 (भाग दो) के तहत गैर इरादतन हत्या का दोषी करार दिया गया है। इस मामले में दोषियों को सजा बुधवार को सुनाई जाएगी। अदालत ने इस मामले में अपना फैसला 26 अगस्त को सुरक्षित रखा था। इस दुर्घटना में 10 जनवरी 1ो लोधी कालोनी में एक बी एम डब्ल्यू कार के नीचे कुचलने से तीन पुलिसकर्मियों सहित 6 लोगों की मौत हो गई थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार मामले का मुख्य अभियुक्त संजीव नशे की हालत में बी एम डब्ल्यू कार चला रहा था और उसकी कार के नीचे कुचलने से छह लोगों मेंहदी हसन गुलाब नासिर और तीन पुलिसकर्मियों राजन कुमार रामराज और पेरुलाल की मौत हो गई थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार इसके बाद कार को गोल्फ लिंक क्षेत्र में सिद्धार्थ गुप्ता के घर में बने गोदाम में ले जाया गया। सिद्धार्थ के पिता राजीव गुप्ता ने चौकीदार भोलेनाथ और ड्राईवर श्याम सिंह को गाड़ी के बंपर और बनोट से खून के धब्बे साफ करने के लिए कहा। बाद में पुलिस ने इन लोगों पर प्रमाण मिटाने का आरोप लगाया। मामले के चश्मदीद गवाह मुंबई के व्यापारी सुनील कुलकर्णी ने पांच दिन बाद पुलिस के सामने अपना बयान दर्ज कराया। मामले की सुनवाई के दौरान 66 में से कई गवाह मुकर भी गए एक मात्र जीवित गवाह मनोज मलिक ने अपने बयान से मुकरते हुए कहा कि यह दुर्घटना कार से नहीं ट्रक से हुई थी। न्यायाधीश ने अभियोजन और बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद राजीव गुप्ता भोलानाथ और श्याम सिंह को भारतीय दंड संहिता की धारा 201 (प्रमाण खत्म करने) के तहत दोषी करार दिया। हालांकि अदालत ने मणिक कपूर को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बीएमडब्ल्यू कांड में संजीव नंदा दोषी करार