अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चइस जज्बे को सलाम

खबर कुछ और बननेवाली थी, लेकिन बन गयी कुछ और। स्टेट बैंक की रांची शाखा और जोनल ऑफिस के कर्मचारियों ने बिहार के बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत सामग्री भेजने का निर्णय लिया। इसकी सूचना हिन्दुस्तान को दी गयी। लेकिन जब राहत सामग्री को भेजने के लिए बैंककर्मियों की टीम के साथ यह संवाददाता खादगढ़ा बस स्टैंड पहुंचा, तो खबर ही कुछ और बन गयी। बैंककर्मियों ने रांची से पूर्णिया जानेवाली भानू बस के एजेंट नसीम से संपर्क किया। नसीम ने कहा सामग्री लेकर बस स्टैंड पहुंच जायें। जब बैंककर्मी बड़े-बड़े 26 बोरा लेकर बस स्टैंड पहुंचे, तो बोरा बस के ऊपर चढ़ाने के लिए तीन-चार कुलियों को बुलाया। जब दूसर कुलियों को यह पता चला कि बिहार के बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत सामग्री जा रही है, तो 14-15 कुली और आकर बोरा उठाने लग गये। बोरा जब ऊपर चढ़ गया, तो कुलियों को उनका मेहनताना देने लगे, लेकिन कुलियों ने पैसा लेने से इनकार कर दिया। उनका कहना था कि इस पुण्य काम के लिए पैसा लेकर वे पाप के भागी नहीं बनना चाहते। भानू बस ने भी भाड़ा लेने से इनकार कर दिया। बस एजेंट नसीम ने कहा कि बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए सामग्री नि:शुल्क पहुंचायेंगे। इस जज्बे को सलाम।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चइस जज्बे को सलाम