अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिलानी के काफिले पर हमला

पाकिस्तान में आधिकारिक दौर से लौट रहे प्रधानमंत्री यूसुफ राा गिलानी को लेने के लिए हवाई अड्ड की ओर जा रहे उनके काफिले पर राजधानी इस्लामाबाद के निकट रावलपिंडी में एक हमला किया गया। शुरुआती रिपोर्टों में कहा गया था कि प्रधानमंत्री अपने वाहन मंे मौजूद थे और वे बाल-बाल बच गए। गृह मंत्रालय क एक वरिष्ठ अधिकारी कमाल शाह न कहा, ‘हमल क वक्त प्रधानमंत्री अपन वाहन मं नहीं थे।’ शाह क मुताबिक प्रधानमंत्री सुरक्षा दस्त क अधिकारी हमल मं बच गए। उन्होंन कहा कि काफिल मं प्रधानमंत्री क नहीं होन क कारण सुरक्षा मं ‘थोड़ी कोताही’ बरती गई। शुरुआती रिपोर्टों मं कहा गया था कि यह प्रधानमंत्री पर जानलवा हमला था। सूचना मंत्री शेरी रहमान न एक बयान मं कहा था कि अज्ञात हमलावरों न गिलानी क काफिल पर गोलियां चलाईं, लकिन व सुरक्षित अपन कार्यालय पहुंच गए। रहमान क बयान स लगा था कि प्रधानमंत्री वाहन मं मौजूद थे। गिलानी के प्रवक्ता जाहिद बशीर का कहना था कि गिलानी पर यह हमला उस समय किया गया जब वह लाहौर की यात्रा से वापस लौटने के बाद इस्लामाबाद हवाई अड्डे से अपनी गाड़ी से इस्लामाबाद के लिए रवाना हुए। उसी वक्त उनकी बुलेटप्रूफ गाड़ी पर कई गोलियां दागी गईं। बशीर ने कहा, ‘गाड़ी पर कई गोलियां दागी गईं। अल्लाह का शुक्र है कि प्रधानमंत्री सुरक्षित हैं।’ प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक प्रधानमंत्री की गाड़ी पर कई गोलियां दागी गइर्ं जिनमें से दो गाड़ंी पर लगी। टेलीविजन चैनलों के फु टेज में भी गाड़ी के शीशे पर गोली के निशान दिखाए गए। घटना इस्लामाबाद और रावलपिंडी क बीच महत्वपूर्ण लोगों क लिए प्रयोग मं लाए जान वाल मार्ग पर घटित हुई। रावलपिंडी मं सना मुख्यालय है। पाकिस्तान मं सुरक्षा बल तीन मोर्चो पर आतंकवादियों स लड़ रह हैं, लकिन पवित्र रमजान क महीन मं एकतरफा संघर्ष विराम की घोषणा की गई है। प्रधानमंत्री के काफिले पर हमले की खबर आते ही पूरे देश में सनसनी फैल गई। गिलानी पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के वरिष्ठ सदस्य हैं। भुट्टो पिछले साल 27 दिसंबर को पार्टी के चुनाव प्रचार के दौरान एक बम हमले में मारी गई थीं। उधर पाकिस्तान के दक्षिण वजीरिस्तान इलाके में अंगोर अड्डे के पास बुधवार तड़के एक गांव में अमेरिकी सैनिकों की कथित ‘जमीनी कार्रवाई’ में कई महिलाओं और बच्चो समेत 20 लोग मारे गए। यह पहला मामला माना जा रहा है जब अमेरिकी फौजों ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर सैन्य कार्रवाई को अंजाम दिया। हालांकि पाकिस्तानी और अमेरिकी अधिकारी इसकी पुष्टि करने से इनकार कर रहे हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गिलानी के काफिले पर हमला