DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेट्रोल के मोर्चे पर राहत अभी नहीं

अभी पेट्रोल के दाम नहीं घटेंगे। विश्व बाजार में कच्चे तेल के दाम 65 डॉलर प्रति बैरल तक जाने के बाद ही सरकार पेट्रोल के दाम घटाने के संबंध में सोच सकती हैं। उससे पहले नहीं। कच्चे तेल के दाम मंगलवार को करीब 105 डॉलर प्रति डॉलर तक चले गए थे। पिछले करीब चार महीनों में इतनी गिरावट कभी दर्ज नहीं हुई है। जानकार मानते हैं कि 65 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर आने में अभी कम से कम एक साल का वक्त लग सकता है। शर्त यह है कि अमेरिका और चीन से इसकी मांग और न बढ़ जाए। वर्तमान में अमेरिका और चीन हर रो क्रमश: करीब सवा दो करोड़ बैरल और 78 लाख बैरल कच्चे तेल का आयात करते हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय के उच्च अधिकारी ने कहा कि दामों में कमी के बावजूद भी तीनों सरकारी तेल कंपनियां इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम और हिन्दुस्तान को करीब 450 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। फायदे की बात छोड़िए,अभी तो इन्हें बस घाटा होना कम हुआ है। इन्हें प्रति लीटर पेट्रोल की बिक्री पर 6.31 रुपये, प्रति लीटर डीाल पर 13.6पये और कुकिंग गैस सिलेंडर पर करीब 312 रुपये का नुकसान हो रहा है। जाहिर है कि अभी कम से कम पेट्रोल के दाम कम होने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पेट्रोल के मोर्चे पर राहत अभी नहीं