अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़पीड़ितों की संख्या 25.71 लाख

मधेपुरा, अररिया, सुपौल, सहरसा और पूर्णिया में बाढ़ पीड़ितों की तादाद अब 25.71 लाख तक पहुंच गयी है। अभी तक मधेपुरा में 14 और सहरसा में 8 व्यक्ितयों के मरने की आधिकारिक पुष्टि की गयी है। दूसरी ओर राज्य सरकार ने जल स्तर कम होने के कारण अपना घर नहीं छोड़ रहे लोगों को आगाह किया है कि सितम्बर और अक्तूबर के पहले सप्ताह में कोसी के जल स्तर में भारी वृद्धि की संभावना बनी रहेगी।लिहाजा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से निकलकर लोग सुरक्षित स्थानों पर आ जाएं।ड्ढr ड्ढr उन्हें निकालने के लिए सेना और थल सेना के जवानों को विशेष रूप से लगाया गया है। सरकार ने ऐसे लोगों से अपील की है कि वे सेना एवं नौ सेना के ट्रंड दस्तों के साथ शीघ्र बाहर आ जाएं।ड्ढr एयर ड्रॉपिंग के जरिए भी यह अपील लोगों तक पहुंचाई जा रही है। इधर राज्य के बाढ़ प्रभावित अन्य 11 जिलों-मुजफ्फरपुर, पटना, कटिहार, नालंदा, पश्चिम चंपारण, खगड़िया, शेखपुरा, सारण, बेगूसराय, भागलपुर और वैशाली में बाढ़ प्रभावितों की संख्या 10.28 लाख हो गयी है। इन जिलों में अभी तक 47 व्यक्ितयों के मार जाने की आधिकारिक पुष्टि है। मधेपुरा, अररिया, सुपौल, सहरसा और पूर्णिया के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों से लोगों को निकालने के लिए सेना के 30 कॉलम काम कर रहे हैं जबकि 5 कॉलम पहुंच रहे हैं। नौ सेना की तीन टुकड़ियां भी काम रही हैं।ड्ढr बचाव और राहत कार्य के लिए 144 मोटर बोट और 1448 नावें चलायी जा रही हैं। नेशनल डिजास्टर रिस्पांश फोर्स के 635 जवान भी बचाव और राहत कार्य में लगाए गए हैं। वायुसेना के हेलीकॉप्टर से अभी तक 77,375 फूड पैकेट और कुल मिलाकर 1,58,435 फूड पैकेट गिराए जा चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाढ़पीड़ितों की संख्या 25.71 लाख