शिक्षक देश और समाज के मार्गदर्शक - शिक्षक देश और समाज के मार्गदर्शक DA Image
6 दिसंबर, 2019|1:45|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षक देश और समाज के मार्गदर्शक

शिक्षक सही मायनों में देश व समाज के मार्गदर्शक होते हैं। उनकी जिम्मेवारी केवल छात्रों तक सीमित नहीं है बल्कि विपदा की घड़ी में वे समाज के अगुआ हो जाते हैं। जाकिर हुसैन संस्थान द्वारा बीआईए सभागार में आयोजित शिक्षा सम्मान पुरस्कार वितरण समारोह को संबोधित करते हुए ऊरा मंत्री रामाश्रय प्रसाद सिंह ने ये बातें कहीं। उन्होंने बिहार में आयी प्रलयंकारी बाढ़ से निपटने के लिए सबको मिलकर काम करने की जरूरत बतायी। उन्होंने युवा वर्ग को रोगारोन्मुखी व व्यावसायिक शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए संस्थानों द्वारा विशेष प्रयास की जरूरत बतायी।ड्ढr ड्ढr इस मौके पर मंत्री ने इंदिरा गांधी इंस्टीच्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी के निदेशक डा. श्रीनिवास, मगध विवि के कुलपति डा. बीएन पांडेय, तिलकामांझी विवि की कुलपति डा. प्रेमा झा, चाणक्य राष्ट्रीय विधि विवि के कुलपति डा. ए. लक्ष्मीनाथ, मौलाना मजहरूल हक अरबी फारसी विवि के कुलपति डा. कमर अहसन, द ग्लोबल ओपेन विवि नागालैंड के प्रति कुलपति डा. प्रियरांन त्रिवेदी, जेडी वीमेंस कॉलेज की प्राचार्य डा. आशा सिंह, पटना विवि के भौतिकी के विभागाध्यक्ष डा. दीपक कुमार शर्मा, एनओएस के क्षेत्रीय निदेशक संजय सिन्हा, डा. एके नायक, डा. आरएन त्रिवेदी, डा. समीर कुमार सिंह को डा. राधाकृष्णन शिक्षा सम्मान पुरस्कार से सम्मानित किया। इससे पहले सुबह में द ग्लोबल ओपेन विवि नागालैंड द्वारा कई व्यावसायिक पाठय़क्रमों को बिहार व झारखंड में जाकिर हुसैन संस्थान के सहयोग से शुरू किया गया। गुरु-शिष्य परंपरा को आगे बढ़ाने में शिक्षकों की महती भूमिका : भोलाड्ढr पटना (का.सं.)। शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर गुरुवार को कालिदास रंगालय में शिक्षा व पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए 11 लोगों को बिहार केसरी सम्मान दिया गया। नगर विकास मंत्री भोला सिंह ने इन्हें सम्मानित किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि गुरु-शिष्य परंपरा को आगे बढ़ाने में शिक्षकों की महती भूमिका रही है। इनकी बदौलत ही राज्य के बच्चे राष्ट्रीय स्तर पर सफलता दर्ज कर रहे हैं।ड्ढr ड्ढr इस मौके पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुआ। सरगम कला एवं समाज कल्याण मंच के इस समारोह में मंत्री के हाथों सम्मानित होने वालों में राजीव कुमार, कुमार अमिताभ, केके कामिनी, संजीत कुमार, चंडीगढ़ के कुमार इंद्रसेन, पत्रकार जयकुमार झा आदि प्रमुख थे। इस मौके पर विधायक अरुण कुमार सिन्हा, आचार्य संजय सरस्वती, आचार्य कमलेश दिव्यदर्शी , संयोजक विनोद पंडित भी मौजूद थे। संचालन व स्वागत मंच के महासचिव सह निदेशक विश्वमोहन चौधरी संत ने किया। स्वागत गीत उर्वशी, दीपांजलि, कविता व बिंदू ने गाया। ओ कान्हा र गीतपर भाव नृत्य किया रागिनी, बिंदू व दीपांजलि ने। उमेश कुमार सेन ने भजन व लोकगीत पेश किया। कोनो रंग मूंगवा गीत पर नृत्य पेश किया कविता, रागिन, दीपांजलि ने। राजस्थानी नृत्य ‘आ-रा-रा-रा’ ने भी सबको झुमाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शिक्षक देश और समाज के मार्गदर्शक