अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विश्व पूंजी बाजार में भारत की 1 फीसदी हिस्सेदारी

विश्व के टॉप धनकुबेरों में जगह बनाने वाले अंबानी बंधुओं, के.पी. सिंह जसे नामों के जुड़ने के बावजूद ग्लोबल वेल्थ मार्केट (विश्व पूंजी बाजार) में भारत की हिस्सेदारी महा 1 फीसदी ही है। ये कहना है कंसल्टिंग फर्म बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (बीसीजी) की हाल ही में जारी की गई वेल्थ रिपोर्ट का। रिपोर्ट के मुताबिक विश्व का कुल पूंजी बाजार 100 खरब डॉलर से भी ज्यादा है। वर्ष 2007 में यह 10खरब रहा, जो पिछले वर्ष की तुलना में 4.ीसदी अधिक है। विश्व बाजार में भारत की हिस्सेदारी मात्र 1.4 खरब डॉलर की है। बीसीजी ने पूंजी बाजार के आकार की यह गणना असेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) के आधार पर की है जिसमें नकद जमा, मनी, मार्केट फंड, सुनियोजित इंवेस्टमेंट के माध्यम से सूचीबद्ध सिक्युरिटीा और ऑनशोर व ऑफशोर असेट्स शामिल हैं। रिपोर्ट में एशिया पैसिफिक की कुल पूंजी 25.5 खरब डॉलर की बताई गई है जिसमें अकेले जापान की करीब आधी हिस्सेदारी है। साथ ही कहा गया है कि भारत और चीन की एयूएम में तेजी से वृद्धि हो रही है और भारत समेत कई अन्य देश में योग्य व अनुभवी रिलेशनशिप मैनेजर्स की कमी है। इस वर्ष की शुरूआत में बिजनेस मैगजीन फोर्ब्स के द्वार जारी विश्व के धनकुबेरों की सूची के अनुसार भारत में बिलेनियर्स की संख्या 53 बताई गई थी। आकलन के मुताबिक इन 53 अरबपतियों की कुल संपत्ति 340 अरब डॉलर है। मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी और डीएलएफ के चेयरमैन के.पी. सिंह को विश्व के टॉप-10 अमीरों में भी जगह दी गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विश्व पूंजी बाजार में भारत की 1 फीसदी हिस्सेदारी