अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कचचर्स्टन क्या जानें सायमंड्स कचचा महत्व : क्लार्कचच

ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट क्लार्क विवादास्पद आलराउंडर एंड्रयू सायमंड्स के बारे में भारतीय कोच गैरी कर्स्टन की इस राय से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। कर्स्टन ने कहा था कि अगर सायमंड्स भारत दौरे पर नहीं जाते हैं तो इससे दोनों टीमों के बीच तनाव कम करने में कमी आएगी। क्लार्क ने शुक्रवार को कहा, ‘सायमंड्स बहुत लोकप्रिय खिलाड़ी हैं। विवादों के बावजूद दर्शक सायमंड्स को क्रिकेट खेलते हुए देखना चाहते हैं और हर क्रिकेटर उनके खिलाफ खेलना चाहता है। इसलिए मैं कर्स्टन की राय से सहमत नहीं हूं।’ सायमंड्स और विवादों का चोली दामन का साथ रहा है। पिछले सप्ताह टीम की एक महत्वपूर्ण बैठक से नदारद रहने के कारण उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज से बाहर कर दिया गया था। उन्हें भारत दौरे के लिए टीम में शामिल किए जाने की संभावना नहीं है। इससे पहले सायमंड्स पिछले वर्ष भारतीय टीम के ऑस्ट्रेलिया दौरे में ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह से उलझ गए थे। उस मामले ने इतना तूल पकड़ा कि टीम इंडिया के दौरा बीच में ही छोड़कर स्वदेश लौटने की नौबत आ गई थी। क्लार्क ने कहा, ‘भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तनाव और मनमुटाव जैसी कोई चीज नहीं है। यह सब मीडिया का किया धरा है। दोनों टीमों के बीच विशेषकर मैदान के बाहर अच्छे रिश्ते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘दोनों टीमों के बीच थोड़ी बहुत प्रतिस्पर्धा होगी जो कि दो देशों के बीच होने वाले किसी भी मुकाबले में स्वाभाविक है। मुझे नहीं लगता है कि पुराने विवादों को लेकर अब दोनों टीमों के बीच किसी प्रकार का कोई तनाव है।’ इस बीच ऑस्ट्रेलिया के एक अन्य तेज गेंदबाज नाथन ब्रैकन ने कहा कि सायमंड्स प्रकरण से टीम की एकजुटता में कोई कमी नहीं आई है। उन्होंने कहा, ‘सायमंड्स को टीम से निकाले जाने से पैदा हुई खटास के बावजूद टीम एकजुट है।’ उन्होंने कहा, ‘हम किसी खिलाड़ी को अकेला नहीं छोड़ सकते हैं। हमारी टीम की सबसे बड़ी ताकत यही है कि हम हर स्थिति में एकजुट रहते हैं।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कचचर्स्टन क्या जानें सायमंड्स कचचा महत्व : क्लार्कचच