अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेल मजदूरों का संघर्ष का रहा है इतिहास : अरुण

राज्य एवं केन्द्र सरकार मेहनत कस मजदूरों पर काले कानून थोप रही है। जिस के बोझ से गरीब दवा ही रह रहा है। उक्त बाते संदेह के माले विधायक का. अरुण सिंह ने कहीं। मौका था व्ही एवं शर्मा इंस्टीच्यूअ में ईस्ट सेन्ट्रल रलवे इम्प्लाक्ष यूनियन का प्रथम डिविजनल अधिवेश के उदघटन का। उन्होने कहा कि रल मजदूरों का संघर्ष का इतिहास रहा है। इस मौके पर पालीगंज विधायक ने कहा कि रलवे में भी वाम जनवादी यूनियन कार्य करं जो संगठित क्षेत्र एवं असंगठित क्षेत्र के मजदूरों में एकता कायम कर देश के मजदूर विरोधी नियम कानून को हटाने पर सरकार को मजबूर करं। इस मौके पर जोनल सचिव राम प्रसाद गोप ने नारा दियाकि ट्रेड यूनियन जनवाद और सामाजिक भूमिका हमारी सांस्कृतिक है।ड्ढr ड्ढr इस अवसर पर वामदेव महतो नेकहा कि छठा वेतन आयोग ने चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी की श्रेणी को की समाप्त कर दिया है। इससे पहले अधिवेशन की शुरुआत पर ईश्वरी प्रसाद, आरएन ठाकुर, दिलिप कुमार, ललित मोहन प्रसाद, बालेश्वर पासवान, लक्ष्मी प्रसाद ने भी सभा को सम्बोधित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रेल मजदूरों का संघर्ष का रहा है इतिहास : अरुण