DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एचइसी : स्वर्ण जयंती वर्ष का स्वर्णिम दिन

एचइसी इस साल अपना स्वर्ण जयंती वर्ष मना रहा है। स्वर्ण जयंती समारोह 15 नवंबर से शुरू होगा। लेकिन छह सितंबर इस साल का स्वर्णिम दिन बन गया। करीब 20 साल बाद एचइसी में इतना बड़ा समारोह हुआ। एक साथ चार केंद्रीय मंत्री, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, भारी उद्योग मंत्रालय के सचिव सहित कई अधिकारी, डीवीसी के अधिकारी भेल एवं राज्य सरकार के अधिकारी जुटे। कार्यक्रम भी वहां हुआ जहां पंडित नेहरू ने देश के इस आधुनिक मंदिर का उद्घाटन किया था।ड्ढr स्वर्णिम दिन इसलिए भी है क्योंकि देश की दो बड़ी कंपनियों ने साझा मंच पर सवार होने का संकल्प लिया। यह पीएसयू में एक नये अध्याय की शुरुआत की तरह है। सीएम बनने के बाद पहली बार शिबू सोरन एचइसी गये। और वहां उन्होंने पैकेा देने की घोषणा कर दी। डीवीसी के कार्यालय के लिए जमीन भी देने की घोषणा की। उन्होंने कहा भी कि जब सभी ग्रह एक साथ होते हैं, तो शुभ काम हो ही जाता है। चार मंत्रियों ने प्लांटों को देखा। कई मामलों का हल भी तत्काल निकाला गया। इस कारण छह सितंबर एचइसी के लिए हमेशा यादगार रहेगा।ड्ढr एचइसी में बनेगा डीवीसी का कार्यालयड्ढr रांची में डीवीसी का कार्यालय खोलने के लिए जमीन की समस्या का निराकरण हो गया है। यह कार्यालय अब एचइसी में खुलेगा। इसके लिए राज्य सरकार तीन एकड़ जमीन देगी। जमीन मिलने के एक साल के अंदर कार्यालय बन कर तैयार हो जायेगा। यह घोषणा एचइसी में आयोजित समारोह में की गयी। केंद्रीय वाणिज्य एवं ऊरा राज्य मंत्री जयराम रमेश ने अपने समारोह में मौजूद मुख्यमंत्री शिबू सोरेन से कहा कि कार्यालय के लिए पहले जो जमीन दी गयी थी, वह विवादित है। इस कारण वह चाहते हैं कि एचइसी में ही जमीन मिल जाये। यदि तीन एकड़ जमीन मिल जाती है, तो कार्यालय एक साल में बन कर तैयार हो जायेगा। उन्होंने कहा कि डीवीसी अगले चार साल में 3500 मेगावाट बिजली उत्पादन के लिए बोकारो, चंद्रपुरा, मैथन एवं कोडरमा में पावर प्लांट लगायेगा। 12वीं पंचवर्षीय योजना में भी कई प्लांट लगेंगे। उन्होंने कहा कि इन प्लांटों में तकनीकी पद पर बाहर के लोगों को नियुक्ित नहीं हो इसके लिए स्थानीय लोगों को प्रशिक्षित किया जायेगा। इसके लिए हाारीबाग, कोडरमा, बोकारो एवं चंद्रपुरा में आइटीआइ खोले जायेंगे। चंद्रपुरा में सेशन दो माह बाद शुरू हो जायेगा। यदि जमीन मिली, तो डीवीसी राज्य में इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने में भी निवेश कर सकता है। इसके बाद शिबू सोरन ने तीन एकड़ जमीन देने की घोषणा की। साथ ही उन्होंने एक आइटीआइ दुमका में भी खोलने का आग्रह किया, जिसे मंत्री जयराम ने मान लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एचइसी : स्वर्ण जयंती वर्ष का स्वर्णिम दिन