DA Image
26 जनवरी, 2020|8:19|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अल्पसंख्यक महिलाओं को सशक्त करने की पहल

अल्पसंख्यक महिलाओं को सामाजिक, शैक्षिक और आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए योजना आयोग ने एक नई योजना की शुरुआत की है। इसके लिएउनके बीच जागरुकता अभियान चलाया जाएगा, ताकि वे अपने अधिकारों के बारे में जान सकें। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की मदद से चलाई जाने वाली इस योजना पर अगले पांच वर्षो में 20 करोड़ रुपये खर्च होंगे। योजना आयोग की सदस्य सईदा हमीद ने बताया कि यह योजना जल्द ही लागू की जाएगी और इसका क्रियान्यवन गैरसरकारी संगठनों की मदद से किया जाएगा। ड्ढr हाल ही में सरकार के एक अनुमान के मुताबिक मुस्लिम महिलाआें के बीच साक्षरता की दर 21 प्रतिशत है। माक्र्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी (माकपा) की महिला शाखा अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संगठन की अध्यक्ष और पूर्व सांसद सुभाषिनी अली कहती हैं कि मुस्लिम महिलाओं को असमानता और भेदभाव का सामना करना पड़ता है। दिी विश्वविद्यालय में राजनीतिक शास्त्र के प्रोफेसर सुब्रतो मुखर्जी का कहना है कि सही मायनों में उत्थान और विकास उसी समय होगा जब मुस्लिम महिलाओं को शैक्षिक रूप से मजबूत बनाया जाएगा।ं

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: अल्पसंख्यक महिलाओं को सशक्त करने की पहल