अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीयों ने मेरा तोड़ ढूंढ़ निकचचाला : मेंडिस

श्रीलंका के रहस्यमई स्पिनर अजंता मेंडिस ने स्वीकार किया है कि भारतीय बल्लेबाजों ने उन्हें एकदिवसीय क्रिकेट सीरीज में आसानी से खेलकर उनका तोड़ ढूंढ़ निकाला है। मेंडिस के हवाले से स्थानीय मीडिया ने कहा, ‘आप इसे इस तरह से ले सकते हैं कि प्रतिभाशाली बल्लेबाज अपनी गलतियों से सबक सीखते हैं और उन गलतियों को जल्दी सुधार लेते हैं।’ एशिया कप, टेस्ट श्रृंखला और एकदिवसीय श्रृंखला में भारतीय बल्लेबाजों के लिए ‘सिरदर्द’ साबित हुए मेंडिस की ताजा स्वीकारोक्ित से भारतीय बल्लेबाजों को जरूर कुछ राहत मिल सकती है। मेंडिस ने हालांकि साथ ही कहा कि वह अगली बार कुछ भारतीय बल्लेबाजों से हिसाब बराबर करने के तरीके ढूंढ़ लेंगे। उन्होंने कहा, ‘मैं भी अपनी गेंदबाजी में सुधार करूंगा और भारतीय बल्लेबाजों को छकाने के तरीके ढूंढूगा।’ 23 वर्षीय स्पिनर ने कहा कि भारतीय बल्लेबाज उन्हें खेलते हुए ज्यादा सावधानी दिखा रहे थे इसीलिए उन्हें उनकी गेंदे खेलने में परेशानी हो रही थी।’ उन्होंने कहा, ‘मैं वाकई खुश हूं। मैंने इतनी सफलता की उम्मीद नहीं की थी।’ उन्होंने इस बात का खुलासा किया कि इंग्लैंड की काउंटी ससेक्स, सर और केंट ने उनमें दिलचस्पी दिखाई है। मेंडिस के कोच ट्रेवर बेलिस को भी मेंडिस से बहुत उम्मीदें हैं। उनका मानना है कि मेंडिस 1000 टेस्ट विकेटों का आंकड़ा छू सकते हैं। बेलिस ने कहा, ‘मेंडिस 1000 विकेट ले सकते हैं। मुझे उनके यहां तक न पहुंच पाने की कोई वजह नजर नहीं आती। खासतौर से तब जब वह विकेट ले रहे हैं और गेंदबाजी का लुत्फ उठा रहे हैं। मेंडिस और मुथैया मुरलीधरन की तकनीक में क्या अंतर है यह पूछे जाने पर बेलिस ने कहा, ‘मेंडिस उंगलियों के जादूगर हैं जबकि मुरली कलाई के।’ कोच ने कहा कि मेंडिस और मुरली की भारत के खिलाफ 2-1 से टेस्ट सीरीज जीतने में महत्वपूर्ण भूमिका रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारतीयों ने मेरा तोड़ ढूंढ़ निकचचाला : मेंडिस