अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज से अमेरिकी कांग्रेस में करार पर बहस

सोमवार से अमेरिकी कांग्रेस का सत्र शुरू हो रहा है जिसमें भारत-अमेरिकी परमाणु करार पर जोरदार बहस होगी। एक तरफ जहां बुश प्रशासन जल्द से जल्द इस करार पर कांग्रेस की मुहर लगवाना चाहेगा वहीं विपक्ष अब भी करार के आंकलन की बात कर रहा है। भारत अमेरिकी परमाणु करार को लेकर अमेरिका में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों के बीच तीखे शब्दबाण चल रहे हैं। हालांकि दोनों उम्मीदवारों ने एनएसजी में भारत को दी गई छूट का समर्थन किया है। रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार जान मैक्केन ने एनएसजी से भारत को मिली छूट का स्वागत करते हुए कहा है कि यह समझौता दोनों देशों के हित में है और इससे अमेरिका और भारत संबंध नई ऊंचाईयों को छूएंगे। उन्होंने कहा कि समझौते से परमाणु अप्रसार के प्रयासों को चोट नहीं पहुंचेगी और भारत की कार्बन आधारित उद्योगों पर निर्भरता खत्म होगी और यह जलवायु परिवर्तन के लिहाज से भी अच्छा होगा। उन्होंने कहा कि रिपब्लिकन पार्टी हमेशा से भारत और अमेरिका के बीच बेहतर संबंधों की हिमायती है लेकिन मैं जानना चाहता हूं कि आेबामा इस बारे में क्या समझते है। उनकी डेमोक्रेटिक पार्टी ने समझौते की राह में कई रोड़े अटकाए हैं। उधर आेबामा ने शिकागो से एक बयान जारी कर कहा कि वह एनएसजी से भारत को मिली छूट का स्वागत करते है और अब इस समझौते को जल्द से जल्द अमेरिकी कांग्रेस में पेश किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि डेमोक्रेटिक पार्टी समझौते का आकलन करेगी और अगर देशहित मेंहुआ तो पूरा समर्थन भी देगी। इस बीच समझौते को अमेरिकी कांग्रेस की मंजूरी दिलाने के लिए भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिको ने भी अभियान शुरू कर दिया है। कई प्रभावशाली भारतीय मूल के नागरिक दोनों पार्टियों से लगातार संपर्क बनाए हुए है ताकि समझौते को बिना किसी व्यावधान के अमेरिकी कांग्रेस में पारित कराया जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आज से अमेरिकी कांग्रेस में करार पर बहस