अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिका का फिर हमला, 16 मरे

पाकिस्तान के अशांत सरहद-ए-सूबा प्रांत में अफगानिस्तान की सीमा से सटे इलाके में सोमवार को फिर अमेरिकी मानवरहित विमानों ने आतंकी संगठन अल कायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन के विश्वस्त सहयोगी जलालुद्दीन हक्कानी के मदरसे पर छह मिसाइलें दागीं जिनमें सात विदेशी आतंकियों समेत 16 लोग मारे गए। मिरनशाह के पास दांडी दारपाकखेल गांव के प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दो अमेरिकी मानवरहित विमानों ने तीन मिसाइलें दागीं। आरंभिक खबरों में कहा गया था कि हमले में महिलाओं और बच्च समत छह लोग मार गए हैं और कम स कम 15 लोग घायल हो गए हैं। पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अतहर अब्बास ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि हक्कानी तालिबान से जुड़ा रहा है और 70 और 80 के दशक में सोवियत संघ की सेनाओं के खिलाफ जंग में हिस्सा ले चुका है। समझा जाता है कि हक्कानी के पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ‘आईएसआई’ से भी गहरे संबंध हैं। ‘न्यूयार्क टाइम्स’ ने पिछले माह एक रिपोर्ट में कहा था कि आईएसआई और हक्कानी ने मिलकर काबुल स्थित भारतीय दूतावास पर हमला किया था। हालांकि हक्कानी के बारे में अभी कुछ पता नहीं चला है। हक्कानी के बेटे बदरूद्दीन ने फोन पर बताया कि हमले के वक्त हक्कानी मदरसे में मौजूद नहीं थे। बदरूद्दीन ने बताया कि उनके पिता और उनका छोटा भाई इस समय अफगानिस्तान में हैं। अमेरिकी हमले में उसकी चाची मारी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अमेरिका का फिर हमला, 16 मरे