अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सभी जिलों में स्वचालित मौसम केन्द्र खुलेंगे

सरकार ने राज्य के सभी जिलों में स्वचालित मौसम केन्द्र खोलने का निर्णय किया है। पांच दिन बाद के मौसम की जानकारी किसानों को पहले दी जायेगी। साथ ही किसानों को दी जाने वाली वैज्ञानिकों की सलाह अब बसुधा केन्द्रों और आत्मा कार्यालयों को भी भेजी जायेगी। किसान वहां से सलाह प्राप्त कर मौसम के अनुसार समय रहते खेती की योजना में परिवर्तन कर सकेंगे। इसके लिए राज्य में पूर्व से संचालित पूसा, साबौर और सहरसा स्थित क्षेत्रीय कार्यालयों को बसुधा केन्द्रों से जोड़ा जायेगा।ड्ढr विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अभी राज्य के 1जिलों में स्वचालित मौसम केन्द्र की स्थापना के लिए मौसम विभाग को अनापत्ति प्रमाण पत्र दे दिया गया है। राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित 16 कृषि विज्ञान केन्द्रों के अलावा तीन अन्य केवीके में भी ये स्वचालित मौसम केन्दड्र्ढr लगाये जायेंगे।ड्ढr ड्ढr प्रथम चरण में जिन जिलों में ये केन्द्र लगेंगे उनमें राजधानी पटना के अलावा वैशाली, मधेपुरा, अररिया, बेगूसराय, बांका, मुंगेर, गया, समस्तीपुर, कटिहार, औरंगाबाद, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, भागलपुर, मुजफ्फरपुर,दरभंगा, आरा, नवादा और कैमूर स्थित कृषि विज्ञान केन्द्र शामिल हैं। बामेति के निदेशक डा. आर के सोहाने ने इस बावत पूछने पर बताया कि मौसम के आधार पर वैज्ञानिक जो सुझाव देंगे वह सविस्तार होगा ताकि किसानों को समझने में कोई परशानी न हो। बसुधा केन्द्रों या आत्मा कार्यालयों में ये सलाह पहुंचा दिये जायेंगे तो किसान वहां से असानी से प्राप्त कर सकेंगे। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है जिससे किसानों तक सीधे वैज्ञानिकों की सलाह पहुंचायी जा सके। इसके लिए वैज्ञानिक मीडिया पर ही निर्भर करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सभी जिलों में स्वचालित मौसम केन्द्र खुलेंगे