DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फेडरर फिर किंग

रोजर फेडरर ने अरसे बाद अपनी चीते सी रफ्तार और चौकन्नेपन का प्रदर्शन करते हुए सोमवार को यहां अपना पांचवां यूएस ओपन टेनिस खिताब जीत लिया। फेडरर के लिए यह साल अब तक बहुत निराशाजनक रहा था। लेकिन उन्होंने फ्लशिंग मीडोज में फाइनल मुकाबले में एंडी मरे को 6-2, 7-5, 6-2 से हरा कर पिछली बुरी यादों को धो डाला। इसके साथ ही मरे का 72 साल में पहला ब्रिटिश पुरुष ग्रैंड स्लैम विजेता बनने का ख्वाब चकनाचूर हो गया। दूसरी ओर स्विट्जरलैंड के फेडरर ने अपना 13वां ग्रैंड स्लैम खिताब हासिल कर लिया। मरे का बैकहैंड नेट में उलझने के साथ ही साल का अपना पहला ग्रैंड स्लैम खिताब पाने की खुशी में फेडरर घुटनों के बल बैठ गए। उन्होंने पीठ के बल गुलाटी खाने के बाद अपनी आंखों को हथेलियों से ढंक लिया। पीट सम्प्रास के 14 ग्रैंड स्लैम खिताब के रिकॉर्ड से फेडरर अब सिर्फ एक कदम दूर रह गए हैं। उन्होंने कहा कि वह 13 खिताबों के आंक से किसी भी कीमत पर आगे निकलना चाहेंगे। इस जीत के बाद फेडरर ने कहा, ‘एक बात तो तय मानिए। मैं 13 खिताब तक ही नहीं रूकना चाहता हूं। यह तो मेरे लिए बड़ी अजीब बात होगी।’ फेडरर की इस जीत ने इस वर्ष लगातार उनके खराब फॉर्म से निजात दिलाई। हाल में ही स्पेन के राफेल नदाल से नंबर एक की कुर्सी गंवाने वाले फेडरर के लिए यह सत्र कुछ खास नहीं रहा था। लेकिन यूएस ओपन की जीत ने उन्हें बड़ी राहत दी होगी। यूएस ओपन में लगातार 34 मैच जीतने वाले दुनिया के नंबर दो खिलाड़ी फेडरर ने कहा, ‘वाकई बहुत अच्छा लग रहा है। यह मेरे करिअर का बड़ा ही खास मौका है।’ उन्होंने कहा, ‘इस वर्ष ग्रैंड स्लैम मुकाबलों के फाइनल में मुझे कुछ झंझावातों से जूझना पड़ा। खासकर विंबलडन में राफेल नदाल से हार का दर्द अभी भी है। इसलिए यूएस ओपन को अपने घर ले जाना सुकून देता है। इसका मतलब हुआ कि मैंने आखिरी किला फतह कर लिया। मैंने बेहतर खेल दिखाया। मेरे लिए इस टूर्नामेंट का अंत बहुत अच्छा रहा।’ जाहिर है फेडरर के लिए यह जीत बड़ी महत्वपूर्ण है। उन्होंने अपने ट्रॉफियों के शोकेस में एक और ट्रॉफी बढ़ा ली। फेडरर की इस जीत ने उन्हें टेनिस इतिहास का खास पुरुष बना दिया है। लगातार पांच बार विंबलडन और यूएस ओपन का खिताब जीतने वाले वह एकमात्र खिलाड़ी बन गए हैं। दूसरी तरफ किसी ग्रैंड स्लैम के फाइनल में पहली बार पहुंचने वाले मरे ने कहा, ‘मुझे अभी खुद में बहुत सुधार करना है। तभी मैं किसी ग्रैंड स्लैम को जीत सकता हूं। मैं फेडरर के खिलाफ यहां खेलने उतरा था जो दुनिया के दिग्गज खिलाड़ी हैं। वह गजब के फुर्तीले हैं। उन्होंने अपने शानदार खेल से आज यहां एक और रिकॉर्ड बनाया।’ यूएस ओपन में हुई बारिश ने इस टूर्नामेंट के फाइनल को तीसरे सोमवार तक खींच दिया। 1े बाद पहली बार ऐसा हुआ कि पुरुषों का फाइनल सोमवार को खेला गया हो। हालांकि फेडरर के लिए यह बड़ा ही अच्छा रहा कि उन्हें 50 घंटे का आराम मिल गया। दूसरी तरफ मरे को नदाल से भिड़ने के 24 घंटे के अंदर ही कोर्ट पर आना पड़ा। फाइनल मुकाबले का पहला सेट फेडरर ने मरे को इधर उधर दौड़ाते हुए 27 मिनट में ही जीत लिया। मरे ने इस सेट में कई बेजा भूलें कीं और फेडरर ने उन्हें इस सेट में आसानी से 6-2 से हरा दिया। दूसरे सेट में भी फेडरर ने तेज शुरुआत की और पहले दो गेम जीतकर 2-0 की बढ़त बना ली। लेकिन मरे दूसरे सेट में थोड़ा संघर्ष करने के जज्बे से उतरे थे। उन्होंने अगले दो गेम जीतकर मुकाबला 2-2 से बराबरी पर पहुंचा दिया। पांचवां गेम भी मरे के नाम रहा। लेकिन इसके बाद फेडरर अपनी लय में आ गए और मरे की बेजा भूलों का फायदा उठाते हुए यह सेट भी 7-5 से जीत लिया। तीसरे सेट में फेडरर मानो मरे पर टूट पड़े। अपने ताकतवर शॉटों, बैकहैंडों और रिटर्नो से उन्होंने मरे को मार दिया। उनके ताकतवर शॉटो का मरे के पास कोई जवाब ही नहीं था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फेडरर फिर किंग